Home >> Exclusive News >> तेल की गिरती कीमत बन सकती है युद्ध का कारण: बख्शी

तेल की गिरती कीमत बन सकती है युद्ध का कारण: बख्शी


download (1)
लखनऊ,(एजेंसी) 19 जनवरी । कच्चे तेल की कीमतों के नियंत्रण को लेकर अमेरिका और चीन के बीच युद्ध छिड़ सकता है। ये मानना है, रिटायर्ड मेजर जनरल जी. डी. बख्शी का। वे रविवार को राजधानी में आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे थे। उनके मुताबिक, चीन और अरब देश लगातार इस कोशिश में है कि कच्चे के तेल का कारोबार डॉलर के बजाय दूसरी मुद्राओं में किया जाए, ताकि अमेरिकी अर्थव्यवस्था धराशायी हो जाए। दूसरी ओर अमेरिका लगातार डॉलर की कीमतें कम करने में लगा है, ताकि चीन के पास रखे भारी-भरकम डॉलर की कीमतें कम हो जाएं और चीन की अर्थव्यवस्था लड़खड़ा जाए। दोनों देशों के बीच आर्थिक शक्ति बनने की यही होड़ युद्ध का कारण बन सकती है। इसका सबसे ज्यादा असर भारत पर पड़ेगा।

सेना में टेक्नॉलजी की जरूरत
सेमिनार में रक्षा विशेषज्ञों ने चीन को भारत के लिए बड़ा खतरा बताते हुए कहा कि हमें अपना रक्षा बजट बढ़ाने की जरूरत है। एनबीटी से बातचीत के दौरान रिटायर्ड मेजर जनरल जी. डी. बख्शी ने कहा कि चीन का हर साल का रक्षा बजट 180 अरब डॉलर का है, जबकि भारत का सिर्फ 37 अरब डॉलर। चीन लगातार रक्षा क्षेत्र में टेक्नॉलजी को बढ़ावा दे रहा है, लेकिन भारत इस पर ध्यान नहीं दे रहा। चीन ने पिछले 10 साल में 42 लाख के सैनिकों की संख्या कम कर 16 लाख कर दी है। इससे सैनिकों पर खर्च कम हुआ है और चीन इस पैसे का इस्तेमाल टेक्नॉलजी में कर रहा है।

भारत से रूस तक हमले की योजना
रक्षा विशेषज्ञ चीन को ऐसे ही बड़ा खतरा नहीं मान रहे। रिटायर्ड मेजर जनरल जी. डी. बख्शी के मुताबिक, चीन के एक जनरल ने वर्ष 2020 से 2060 तक एशिया के प्रमुख देशों पर हमला करने की योजना तैयार की है। इसके मुताबिक, चीन 2020 से 2025 के बीच ताइवान पर हमला करने, 2035 से 2040 के बीच असम व सिक्कम पर कब्जा करने, 2040-45 के बीच जापान पर, 2045 से 2050 के बीच मंगोलिया और 2055-2060 के बीच रूस पर आक्रमण करने की योजना है।


Check Also

दिल्ली में कोरोना मरीजो की संख्या 551262 पहुची अब तक 8811 लोगों की हो चुकी मौत : स्वास्थ्य विभाग

भारत में कोरोना संक्रमण को लेकर चिंता बढ़ती नजर आ रही है. देश में कोरोना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *