Home >> Breaking News >> दिल्ली: बीजेपी ने किरन बेदी को बनाया सीएम उम्मीदवार, कृष्णानगर सीट से लड़ेंगी चुनाव

दिल्ली: बीजेपी ने किरन बेदी को बनाया सीएम उम्मीदवार, कृष्णानगर सीट से लड़ेंगी चुनाव


kiran_bedi_amitshah
नई दिल्ली,(एजेंसी) 20 जनवरी । पार्टी के भीतर असहमति को दरकिनार करते हुए बीजेपी ने हाल में पार्टी में शामिल हुई पूर्व आईपीएस अधिकारी किरण बेदी को सात फरवरी को होने जा रहे दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया। साथ ही पार्टी ने 70 में से 62 विधानसभा सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों के नामों की भी घोषणा कर दी।

बीजेपी संसदीय बोर्ड और केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद घोषणा करते हुए पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि 65 वर्षीय बेदी को उतारने के फैसले पर ‘सर्वसम्मति’ थी। उन्होंने कहा कि बीजेपी बेदी के नेतृत्व में 70 सदस्यीय विधानसभा के लिए चुनाव लड़ेगी। वह पूर्वी दिल्ली में कृष्णानगर सीट से चुनाव लड़ेंगी। इसे बीजेपी का पारंपरिक सीट और गढ़ माना जाता है जहां से पिछली बार हषर्वर्धन चुनाव जीते थे।

सूत्रों के हवाले से खबर है कि कृष्णानगर से हर्षवर्धन अपने किसी चहेते को टिकट दिलाना चाहते थे, किरन को टिकट मिलने से नाराजगी की खबरें हैं। अमित शाह ने हर्षवर्धन को मनाने का जिम्मा राजनाथ सिंह को सौंपा है।

संसदीय बोर्ड और सीईसी की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और अन्य ने हिस्सा लिया।

शाह ने कहा, ‘बीजेपी संसदीय बोर्ड ने फैसला किया है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में किरण बेदी बीजेपी की ओर से मुख्यमंत्री पद के लिए चेहरा होंगी। एक पुलिस अधिकारी के रूप में उन्होंने दिल्ली की जनता का विश्वास जीता है और भ्रष्टाचार और अपराध के खिलाफ जाना-पहचाना चेहरा रही हैं।’ संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए शाह ने कहा, ‘मुझे भरोसा है कि किरण बेदी दिल्ली की जनता की आकांक्षाओं को पूरा करेंगी। मुझे विश्वास है कि किरण बेदी का नेतृत्व आगामी दिल्ली के चुनावों में बीजेपी की जीत सुनिश्चित करेगा।’
amit_shah_BJP

बीते गुरूवार को बीजेपी में शामिल हुईं बेदी ने उनके उपर विश्वास जताने के लिए पार्टी के प्रति आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा, ‘मैंने पहले ही किसी भी सीट से चुनाव लड़ने की अपनी इच्छा का इजहार किया है। समूची दिल्ली मेरे दिल के करीब है। हम एक अच्छी दिल्ली विकसित करेंगे।’

राष्ट्रीय राजधानी में किरण बेदी के बीजेपी के प्रचार अभियान का नेतृत्व करने को लेकर पार्टी में असहमति के स्वर उठने के बारे में पूछे जाने पर शाह ने कहा कि पार्टी में कोई नाराजगी नहीं है और सभी लोग बीजेपी की जीत सुनिश्चित करने के लिए एक टीम की तरह मिलकर काम कर रहे हैं।

जगदीश मुखी समेत बीजेपी की दिल्ली इकाई के नेताओं ने उनसे सलाह-मशविरा किए बिना बेदी को पार्टी में शामिल किए जाने पर पहले आपत्ति जताई थी। एक अन्य नेता मनोज तिवारी ने भी अपनी नाखुशी जताई थी लेकिन दोनों नेता बाद में पार्टी लाइन के आगे झुक गए।
delhi_BJP
शाह ने कहा कि बीजेपी अपने सहयोगी अकाली दल के साथ मिलकर दिल्ली में चुनाव लड़ेगी।

इससे पहले बीजेपी को ‘अद्भुत और संगठित’ पार्टी करार देते हुए किरण बेदी ने आज कहा कि उनके मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किए जाने की संभावना को लेकर नाराजगी की खबरें बढ़ा चढ़ाकर पेश की गई हैं। बेदी ने दावा किया कि उनके पार्टी में शामिल होने से कार्यकर्ता खुश और एकजुट हैं।

उन्होंने कहा, ‘यह सब बढ़ा चढ़ाकर पेश किया गया है। मैं अब पार्टी के भीतर हूं। वे (पार्टी कार्यकर्ता) बहुत खुश हैं। वे एकजुट हैं। एक परिवार में इधर-उधर आवाज हो सकती है। पार्टी के कार्यकर्ता खुश, उत्साहित और एकजुट हैं।’

कौन हैं किरन बेदी
पंजाब के अमृतसर में जन्मी किरन बेदी को दिल्ली के अखाड़े में उतारकर बीजेपी ने केजरीवाल के सामने नई चुनौती खड़ी कर दी है। 9 जून 1949 को जन्मी किरन बेदी देश की पहली महिला आईपीएस हैं। 1972 में उन्होंने पुलिस सेवा ज्वाइन की थी।
vv kiran
क्रेन बेदी के नाम से मशहूर रहीं किरन बेदी ने पार्किंग का उल्लंघन करने पर प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गाड़ी को भी उठवा लिया था और जुर्माना भी लगाया था।

साल 1972 से लेकर 2007 तक पूरे 35 साल तक किरन बेदी पुलिस महकमे में अपनी सेवा देती रहीं। 2007 में किरन बेदी ने रिटायरमेंट ले लिया था। अब किरन ने राजनीति में दूसरी पारी शुरू की हैं।

चार साल पहले 2011 में जब दिल्ली के जंतर-मंतर से जनलोकपाल को लेकर आंदोलन खड़ा हुआ था तब अन्ना हज़ारे के मंच पर किरन बेदी नजर आती थीं। उस वक्त अन्ना के एक तरफ अरविंद केजरीवाल नजर आया करते थे और दूसरी तरफ किरन बेदी।

हालांकि राजनीति के सवाल पर ही उन्होंने केजरीवाल का साथ छोड़ दिया था। अब बीजेपी में शामिल होकर उन्होंने दिल्ली के तामम सियासी समीकरण उलट पुलट दिये हैं।


Check Also

दुखद : दिल्ली में कोरोना से मरने वालों की संख्या 9342 पहुची

लंबे समय से कोरोना की मार से कराह रही राजधानी दिल्ली के लिए राहत की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *