Home >> Breaking News >> दिल्ली चुनावः BJP पर भारी पड़ सकती है कार्यकर्ताओं की नाराजगी

दिल्ली चुनावः BJP पर भारी पड़ सकती है कार्यकर्ताओं की नाराजगी


23rd january news imeges नई दिल्ली ,(एजेंसी) 23 जनवरी । यह कोई छिपी बात नहीं है कि पिछले कुछ समय में बहुत से राज्यों में बीजेपी की चुनावी विजय के पीछे उसके कार्यकर्ताओं की मेहनत का महत्वपूर्ण योगदान था। पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मतदान केंद्र तक वोटर्स को लाने के लिए जीतोड़ कोशिश की थी। लेकिन अगर ये कार्यकर्ता पार्टी से नाराजगी की वजह से अपना काम न करें या उसकी रफ्तार बेहद कम कर दें, तो क्या होगा?

यह आशंका गुरुवार को बीजेपी की दिल्ली यूनिट के वरिष्ठ नेताओं को पुरानी दिल्ली में बूथ संयोजक सम्मेलन के दौरान नजर आई। यह मीटिंग कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाने के लिए आयोजित की गई थी, लेकिन इसमें नेताओं को नाराज कार्यकर्ताओं को मनाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। पार्टी के बहुत से कार्यकर्ता किरण बेदी को अचानक मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किए जाने से नाराज हैं।

इसमें केंद्रीय मंत्री हर्ष वर्धन, दिल्ली बीजेपी के प्रेजिडेंट सतीश उपाध्याय, पार्टी के वरिष्ठ नेता विजय गोयल और दिल्ली बीजेपी के प्रभारी प्रभात झा ने चांदनी चौक और निकट के इलाकों के विधानसभा क्षेत्रों के 200 से अधिक कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। इसमें कार्यकर्ताओं से गैर-जरूरी शिकायतों से परेशान हुए बिना चुनाव में पूरी मेहनत करने के लिए कहा गया।

गोयल ने अपने संबोधन में कहा, ‘आप में से कुछ पूछ रहे हैं कि किरणजी इतने वर्षों से कहां थीं? आप ऐसा कैसे कह सकते हैं। हमें पता होना चाहिए कि वह यहां 40 वर्षों से हैं। वह हममें से एक हैं। वह हमारे लिए लड़ने आई हैं। हमें दूसरों से लड़ने और दिल्ली में पार्टी की जीत के लिए उनके साथ मिलकर काम करना होगा। हमारे बीच में कोई तनाव नहीं होना चाहिए। ऐसे समय आएंगे, जब आपको निराशा होगी, लेकिन कृपया खुद को एकजुट रखें और अपना सर्वश्रेष्ठ दें। यह बीजेपी के वर्कर्स की अनूठी ताकत है। पार्टी को ऐसी जीत दिलाएं, जैसी उसे अन्य राज्यों में मिली है।’

नेताओं ने वर्कर्स से कहा कि दिल्ली को बीजेपी सरकार की जरूरत है और यह वर्कर्स का एकमात्र लक्ष्य होना चाहिए। हर्ष वर्धन का कहना था, ‘पिछली बार अगर कुछ और लोग वोट देते तो हम आसानी से सरकार बना सकते थे। इस बार आपका ध्यान केवल लोगों को हमारे लिए वोट करने के लिए लाने पर होना चाहिए। जब मैं चांदनी चौक से चुनाव लड़ने के लिए आया था तो मुझसे कहा गया था कि यह सबसे मुश्किल सीट है। लेकिन आप लोगों ने मुझे जिताया। आपको इसी मेहनत से काम करना होगा।’

सूत्रों ने बताया कि बीजेपी के कई कार्यकर्ताओं ने नेताओं तक संदेश पहुंचाया है कि वे वोट नहीं देंगे और बूथ लेवल को-ऑर्डिनेटर के तौर पर अपनी जिम्मेदारी भी नहीं निभाएंगे। बीजेपी की दिल्ली यूनिट के वरिष्ठ नेताओं ने माना है कि उन्हें पार्टी ने किनारे कर दिया है, लेकिन उन्हें ज्यादा नाराजगी इस बात से है कि पार्टी ने महत्वपूर्ण फैसलों के लिए उनकी राय लेना जरूरी नहीं समझा।


Check Also

हैदराबाद चुनाव : बीजेपी आलोचकों के दिलों पर राज कर रही और नए क्षेत्रों में जीत हासिल कर रही है : अभिनेत्री कंगना रणौत

हैदराबाद चुनाव पर अभिनेत्री कंगना रणौत ने कांग्रेस पर तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट कर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *