Wednesday , 25 November 2020
Home >> Breaking News >> ‘हंग’ दिल्ली पर लगा 10 हजार करोड़ का सट्टा!

‘हंग’ दिल्ली पर लगा 10 हजार करोड़ का सट्टा!


नई दिल्ली,(एजेंसी) 1 फरवरी । आम आदमी पार्टी की धड़ाधड़ हो रही सभाओं में भीड़ और बीजेपी के करीब 150 बड़े नेताओं की फौज उतरने के बाद भी सट्टा बाजार कन्फ्यूजन में है। यह कन्फ्यूजन ‘हंग’ यानी त्रिशंकु विधानसभा के संकेत दे रहा है। वजह, एक तो अनुमान के मुताबिक आम आदमी पार्टी पिछली बार की अपनी करीब आधी सीटें हार रही है। दूसरा, किरन बेदी को सीएम उम्मीदवार बनाने और टिकटों के गलत बंटवारे की वजह से बीजेपी के ही लोगों ने 18 सीटों पर हार की ‘सुपारी’ दे रखी है। यानी बहुमत के लाले।
Money
गंदा है पर धंधा है ये…गंदा है पर धंधा है ये…

इस हालत पर तीन चीजें बड़ा असर कर सकती हैं। एक, पीएम नरेंद्र मोदी की रैलियां। दो, मुस्लिम धर्मगुरुओं द्वारा किसी एक पार्टी के पक्ष में मतदान की अपील। तीन, हंग की हवा से बचने के लिए एक वर्ग द्वारा (कांग्रेस समर्थकों सहित) आखिर में आकर बीजेपी के पक्ष में वोट।

‘आप’ ने कैसे कलेक्ट किया रिकॉर्ड फंड

सट्टा बाजार के जानकारों के अनुसार, कन्फ्यूजन की वजह से अकेले दिल्ली में ही अभी तक 1000 करोड़ रुपये का सट्टा लगने का अनुमान है। देश और देश से बाहर को मिला लें, तो 10 हजार करोड़ का सट्टा लगा होगा। चुनाव को किरन बेदी बनाम अरविंद केजरीवाल बनाने की बीजेपी की कोशिशों का बाजार में मिला-जुला असर है। महिलाओं का वोट बीजेपी को ज्यादा मिलने की उम्मीद है, लेकिन बेदी की वजह से काफी वोट खराब भी हो सकते हैं। यहीं पर बाजार को कन्फ्यूजन है। बढ़ने वाले और खराब होने वाले वोट का अंतर कितना हो सकता है, इसका गणित रोजाना बदल रहा है। कभी एक तरफ झुकाव, तो कभी दूसरी तरफ झुकाव। इसके बावजूद बीजेपी को बहुमत (36 सीटें) पर बराबर के भाव से दांव लगे हैं। बीजेपी को 42 सीटों तक पर भी दांव हैं, लेकिन भाव महंगा है। भाव महंगा होने का मतलब है कि वैसा होने के चांस कम हैं।

‘बीजेपी हारेगी 16 सीटें’
दांव इस बात पर भी हैं कि बीजेपी 16 सीटें तो हारेगी ही। इनमें कांग्रेस को पिछली बार मिली 8 सीटें भी शामिल हैं। सट्टा बाजार को 12-15 सीटों पर कांटे के मुकाबले की संभावना है। ‘आप’ को बहुमत मिलने के चांस पर फिलहाल सट्टा बाजार में ज्यादा दांव नहीं हैं। सट्टा बाजार पुरानी दिल्ली की सदर बाजार, चांदनी चौक, बल्ली मारान और मटिया महल सीटों पर बीजेपी के मनमाफिक भाव नहीं दे रहा है। माडल टाउन सीट की भी यही हालत है। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में करावल नगर और गोकुलपुर सीट पर भी पसीना आ सकता है।

इस इलाके की सीलमपुर, मुस्तफाबाद, बाबरपुर, रोहताश नगर, सीमापुरी जैसी सीटें फाइट में हैं। उधर, तीमारपुर, आदर्श नगर, वजीरपुर, शालीमार बाग, शकूर बस्ती, उत्तम नगर जैसी सीट को भी फाइट में माना जा रहा है।

इन सीटों पर भी अच्छी फाइट
साउथ में महरौली, मालवीय नगर, ग्रेटर कैलाश सीट पर बीजेपी को मनमाफिक भाव नहीं मिल रहे हैं। लेकिन, साउथ की कुछ नई सीटों पर बीजेपी फाइट में है। ईस्ट दिल्ली की लक्ष्मी नगर सीट को फाइट में मानते हुए काफी सटोरिये कांग्रेस के डॉ. एके वालिया को थोड़ा प्लस में रख रहे हैं।

दिल्ली में किसकी सरकार चाहते हैं ऑनलाइन के रीडर्स

पटपड़गंज, कोंडली की सीट पर भी फाइट है। त्रिलोकपुरी में बीजेपी के लिए कुछ चांस माने जा रहे हैं। उत्तर-पूर्वी दिल्ली की शाहदरा सीट पर हो रहे दिलचस्प मुकाबले में सट्टा बाजार का एक वर्ग भी खासी दिलचस्पी ले रहा है। इस सीट पर बीजेपी-अकाली के पिछले विधायक जितेंद्र शंटी और उनकी पार्षद बहन प्रीति आमने-सामने हैं। कांग्रेस के नरेंद्र नाथ और एक समय बीजेपी के जिला अध्यक्ष रहे रामनिवास गोयल ‘आप’ के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। चार कोणीय मुकाबले में बीजेपी के समर्थक सटोरिये बहन के खड़े होने का फायदा भाई को मिलने का अनुमान लगा रहे हैं।


Check Also

भारत ने सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस लैंड अटैक वर्जन का सफल परीक्षण किया

भारत ने अपनी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस के लैंड अटैक वर्जन का आज सफल परीक्षण …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *