Home >> Exclusive News >> महाशिवरात्रि पर यूपी में आतंकी खतरे की आशंका

महाशिवरात्रि पर यूपी में आतंकी खतरे की आशंका


10_02_2015-10_up_01

लखनऊ ,(एजेंसी)10 फरवरी । उत्तर प्रदेश में 17 फरवरी को महाशिवरात्रि पर्व पर आतंकी गतिविधि के साथ ही असामाजिक तत्व कानून-व्यवस्था को प्रभावित कर सकते हैं। अभिसूचना इकाई को इसकी आशंका है। ईकाई की इस आशंका पर महाशिवरात्रि पर सुरक्षा के विशेष प्रबंध किए जा रहे हैं। अभिसूचना इकाई ने भी इस त्यौहार के मद्देनजर पुलिस को विशेष हिदायत दी है। खासकर मंदिरों, मेलों और जुलूसों को लेकर भी सावधानी बरतने की हिदायत है। किसी भी तरह की नई परंपरा डालने पर सख्ती से रोक रहेगी।

पुलिस महानिरीक्षक कानून-व्यवस्था ए. सतीश गणेश ने बताया कि इस बार दस कंपनी आरएएफ और 31 कंपनी पीएसी सुरक्षा के दृष्टिगत मुहैया कराई जा रही है। इस पर्व के लगभग एक हफ्ते पहले से कांवरिये नदियों से जल भरकर समूहों में आते हैं। इसके लिए लखनऊ, कानपुर, आगरा, बरेली, इलाहाबाद, मेरठ, गोरखपुर और वाराणसी जोन के आइजी को दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। रास्ते में उत्साहित कांवरिये होली गीत, धार्मिक नारे, साखी-सबद का गान करते चलते हैं तथा कभी आक्षेपपूर्ण भाषा का भी प्रयोग करते हैं। ए. सतीश गणेश ने बताया कि सभी जोन के जिलों की पांच वर्षों की आख्या उपलब्ध कराई गयी है। इसके दृष्टिगत समुचित सुरक्षा, पुलिस व्यवस्था उपलब्ध कराने और सांप्रदायिक सौहार्द बनाये रखने पर जोर दिया गया है। नदियों के घाटों की सुरक्षा, लाइटिंग, बैरिकेटिंग के साथ भरपूर फोर्स लगाने के निर्देश हैं।

विवाद होने की वजहें
आइजी कानून-व्यवस्था ए. सतीश गणेश ने कुछ खास बिन्दुओं पर सतर्कता बरतने को कहा है। मसलन रास्ते में मीट आदि की दुकानें, यात्रा के दौरान दुकानदार, पीसीओ, होटलकर्मियों आदि के साथ दुव्यर्वहार, किनारे लगाए गए शिविरों से यातायात प्रभावित होना, पूजा-अर्चना और परिक्रमा को लेकर विवाद, गैर परंपरागत जुलूस और कार्यक्रम, कांवरियों के डूबने, आपत्तिजनक नारे लगाने, मेला स्थल, मंदिर व रास्तों में महिलाओं से छेड़छाड़, नशे की हालत में अवांछनीय व्यवहार और अफवाह आदि बवाल की वजह बनती हैं। इस पर कड़ाई से अंकुश लगाने के निर्देश दिए गए हैं।

यहां रहेगी विशेष सुरक्षा
आइजी ने बताया कि सभी शिव मंदिरों में सुरक्षा की हिदायत है लेकिन कुछ जगह विशेष प्रबंध किए गए हैं। वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर और गंगा घाट के लिए तीन कंपनी आरएएफ और आठ कंपनी पीएसी दी जाएगी। इसके अलावा गोरखपुर के गोरक्षनाथ मंदिर के लिए दो कंपनी पीएसी आवंटित की जा रही है। संतकबीरनगर जिले के तामेश्वरनाथ मंदिर, बस्ती के भदेश्वरनाथ मंदिर, खीरी के गोला गोकर्णनाथ मंदिर, बाराबंकी के लोधेश्वर महादेव मंदिर, बुलंदशहर के महादेव मंदिर अहार, राजघाट नरौरा, बागपत के पूरा महादेव मंदिर, कानपुर के बिठूर घाट और गंगाघाट, कांशीराम नगर के कछलाघाट, बदायूं के कछलाघाट, हापुड़ के गढ़ मुक्तेश्वर और इलाहाबाद के त्रिवेणी संगम पर विशेष सुरक्षा के प्रबंध किए जा रहेंगे।


Check Also

बड़ी खबर : PM मोदी देव दिवाली के शुभ अवसर पर 30 नवंबर को वाराणसी जाएंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 30 नवंबर को वाराणसी जाएंगे. कोरोना वायरस के भारत में दस्तक देने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *