Home >> Breaking News >> व्यापमं के आरोप पर बिफरे शिवराज चौहान

व्यापमं के आरोप पर बिफरे शिवराज चौहान


ss
भोपाल ,(एजेंसी) 17 फरवरी । मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस के आरोपों को निराधार बताते हुए इस्तीफा देने की संभावना को खारिज कर दिया है। व्यापमं घोटाले में कांग्रेस के आरोपों पर सीएम चौहान ने कहा कि कांग्रेस लगातार हार के कारण बौखलाई हुई है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि चौहान भी व्यापमं घोटाले में शामिल हैं।

चौहान ने कहा, ‘मामले की जांच हाई कोर्ट की निगरानी में एसआईटी कर रही है। उसका इंतजार करना चाहिए। सारे तथ्य सामने आएंगे तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस पता नहीं कहां से क्या कागज ले आई है, जिसके सोर्स का भी पता नहीं है और बौखलाहट में ऐसे निराधार आरोप लगा रही है।

लेकिन, घोटाले का असर मध्य प्रदेश के राज्यपाल रामनरेश यादव पर भारी पड़ता नजर आ रहा है। केन्द्र में सरकार बदलने के बाद भी अपनी कुर्सी बचाने में कामयाब रहे रामनरेश यादव के बेटे का नाम व्यापमं घोटाले में आया है। माना जा रहा है कि मध्यप्रदेश विधानसभा के बजट सत्र को सम्बोधित करने के बाद वह अपना पद छोड़ सकते हैं।

उल्लेखनीय हैं कि राज्यपाल रामनरेश यादव लम्बे समय से व्यापमं को लेकर विवाद में हैं। पहले उनके ओएसडी धनराज यादव को गिरफ्तार किया गया था। अब घोटाले की जांच कर रही स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने अपनी चार्जशीट में उनके बेटे शैलेष यादव का उल्लेख किया हैं। जानकारी के मुताबिक एसटीएफ ने शैलेष यादव को नोटिस भेजा है। पहले एसटीएफ का एक अधिकारी खुद नोटिस लेकर राजभवन गया था लेकिन किसी ने नोटिस नहीं लिया तो फिर डाक से नोटिस तामील कराया गया।

अपने बेटे का नाम आने के बाद राज्यपाल रामनरेश यादव ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। इससे पहले जब उनके ओएसडी धनराज यादव को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया था तब उन्होंने कहा था कि वह पूरी तरह से पाक साफ हैं और अगर दोषी पाये जाते हैं तो फांसी पर चढ़ने को भी तैयार हैं। बेटे का नाम आने के बाद वह कुछ नहीं बोले हैं।

रामनरेश यादव जनता पार्टी के शासन काल में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे। बाद में वह कांग्रेस में शामिल हुए थे। 2011 में तत्कालीन यूपीए सरकार ने उन्हें मध्यप्रदेश का राज्यपाल बनाया था। अब कांग्रेस ही उनके खिलाफ खड़ी है। प्रदेश कांग्रेस के कई नेताओं ने राज्यपाल पर निशाना साधा है। विधानसभा में विपक्ष के नेता सत्यदेव कटारे ने कहा है कि यदि मैं राज्यपाल की जगह होता तो तत्काल इस्तीफा दे देता।

सूत्रों के मुताबिक राज्यपाल रामनरेश यादव पद छोड़ने का मन बना चुके हैं। 18 फरवरी को मध्यप्रदेश विधानसभा का बजट सत्र शुरू हो रहा है। सत्र को संबोधित करने के बाद वह अपना इस्तीफा राष्ट्रपति को सौंप सकते हैं। इस बीच कांग्रस द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पर सीधा आरोप लगाये जाने के बाद बीजेपी ने भी राज्यपाल के खिलाफ मुहिम शुरू कर दी है।


Check Also

किसान देश का सच्चा सेवक है मोदी सरकार अन्नदाताओ पर लाठियां बरसा रही है : शिवसेना नेता संजय राउत

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का दिल्ली की सीमा पर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *