Home >> Exclusive News >> होली से पहले उमंग में डूबा बुंदेलखंड

होली से पहले उमंग में डूबा बुंदेलखंड


news-bundelkhand-eagarly-celebrates-holi-before-holi-reached-on-its-actual-date-1-65973-65973-holi-58

झांसी,(एजेंसी) 03 मार्च । होली का रंग चढ़ने में भले ही अभी वक्त थो़डा बाकी हो, मगर बुंदेलखंड तो उत्साह और उमंग से सराबोर हो चला है। फाग और चौकç़डयों की गूंज खेत खलिहानों से लेकर गांव की चौपालों पर सुनाई देने लगी है तो राई नृत्य ने उत्साह और उमंग को चार गुना कर दिया है। बुंदेलखंड में होली के करीब आते ही दलहन की फसलों की कटाई का दौर शुरू हो जाता है, और इस मौके पर किसानों की खुशी का ठिकाना नहीं होता, क्योंकि यह उनकी मेहनत के नतीजे का वक्त जो हाता है। यही कारण है कि होली के चार-पांच दिन पहले से गीत-संगीत का दौर चल प़डता है। यह सिलसिला होली के पंद्रह दिन बाद तक चलता है।

बुंदेलखंड के बारसी घराने से ताल्लुकात रखने वाले रमजान बारसी कहते हैं कि यह समय मसूर, मूंग आदि दालों की कटाई का वक्त है और किसान इस मौके पर पूरी तरह व्यस्त होता है। रात-दिन काम चलता है, किसान फसल की कटाई का काम पूरे मंनोरजन के साथ करता है। एक तरफ जहां फाग और चौकç़डया गाई जाती हैं, वहीं राई जलाकर लोग नाचते भी हैं। यही कारण है कि इस नाच को राई नृत्य कहा जाता है। बरसी बताते हैं कि बुंदेलखंड के शहरी इलाकों मे भले ही फाग, चौकç़डयां गाने की परंपरा कम हो गई हो, मगर ग्रामीण इलाकों में अब भी यह परंपरा कायम है। यही कारण है कि इन दिनों इस क्षेत्र के खेतों और खलिहानों में फाग और चौकç़डयां गाई जा रही हैं। इसी तरह लोक कलाकार जयकरण निर्माेही कहते हैं कि अब तो इस क्षेत्र में उत्सव का समय आ गया है। किसान को खुशी मनाने का समय है। होलिका दहन के पहले से यह सिलसिला शुरू होता है और होलिका दहन के बाद हर तरफ रंग-अबीर उ़डने लगते हैं। इस इलाके में होली का पर्व होलिका दहन के पहले से ही शुरू हो जाता है। निर्मोही बताते हैं कि इन दिनों रात के समय खेतों का नजारा किसी उत्सव से कम नहीं है।

यह बात अलग है कि बारिश ने कुछ हिस्सों के किसानों के उत्साह पर ब्रेक लगा दिया है, फिर भी किसान फाग और चौकç़डयां गाकर अपने उत्साह को बनाए हुए हैं। उन्हें उम्मीद है कि यह बारिश उनके लिए मुसीबत नहीं, बल्कि खुशियो भरी साबित होगी। फाग और चौकç़डयों के गायन में पूरी तरह देसी वाद्ययंत्रों का इस्तेमाल किया जाता है। ढोलक, नगç़डया, मंजीरा, हारमोनियम और बांसुरी के स्वर के बीच छो़डी गई तान माहौल को रोमांचकारी बना देती है। वहीं नगç़डया (नग़ाडा) की थाप पर राई नृत्य करती बे़डनी उत्साह को कई गुना कर देती है। बुंदेलखंड में हर पर्व उत्साह व उमंग के साथ मनाया जाता है, मगर होली पर्व एक ऎसा त्योहार है, जिसका खुमार कई दिनों तक छाया रहता है। यही कारण है कि होलिका दहन के पहले से ही यहां की फिजा में होली की उमंग नजर आने लगी है।


Check Also

काशी पहुचे महाराजाधिराज : खजूरी में जनसभा को संबोधित करेंगे : PM मोदी

प्रधानमंत्री मोदी का हेलीकॉप्टर मिर्जामुराद के खजूरी पहुंच गया है। पीएम मोदी यहा जनसभा को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *