Home >> In The News >> दरोगा पिटते – पिटते बचा, टकराव टला

दरोगा पिटते – पिटते बचा, टकराव टला


14_03_2015-13mti-16-c-2
कानपुर,(एजेंसी) 14 मार्च । दरोगा को घेरने और धक्का-मुक्की के बाद कचहरी का माहौल अचानक बिगड़ गया। वकील उग्र हुए तो सामने खड़े पुलिस कर्मियों ने भी लाठियां उठा लीं। एसीएम प्रथम ने वकीलों की भीड़ में घुसकर दरोगा को पिटने से बचाया। पुलिस अधिकारियों व अधिवक्ता नेताओं ने सूझबूझ दिखाकर स्थिति को संभाला। इस दौरान वकीलों ने सीएम व पुलिस विरोधी नारेबाजी के बीच गेट पर पुतले फूंके।

गंगामेला के बाद शुक्रवार को कचहरी खुली तो इलाहाबाद में दरोगा की गोली से वकील की मौत की घटना का तनाव साफ नजर आया। एसएसपी कार्यालय में आरएएफ, पीएसी व पुलिसबल मौजूद था। दोपहर 12:30 बजे वकील शताब्दी गेट पर इकट्ठा होने लगे। बार व लायर्स एसोसिएशन पदाधिकारी पहुंचे तो गुस्सा बढ़ गया। इस बीच तोपवाला गेट के पास उपेंद्र अवस्थी, टीनू शुक्ला, अनंत दीक्षित, पवन श्रीवास्तव, हरिओम पांडेय, रामजी दुबे, किशोर तिवारी, विभव जायसवाल आदि दर्जनों वकीलों ने पुलिस का पुतला फूंक दिया। इसके बाद शताब्दी गेट के सामने रोड जाम कर दी गई, तो कुछ वकील फिर पुतला ले आए। उसका अर्थी जुलूस निकाला और मुख्यमंत्री व पुलिस विरोधी नारेबाजी के बीच आग लगा दी।

इस हंगामे के बाद पदाधिकारी वकीलों को कचहरी के अंदर ले जा रहे थे कि एक बाइक सवार दरोगा आ धमके। वकील फिर भड़क गए। दरोगा को घेर लिया। धक्का-मुक्की के बीच कुछ वकील उन्हें पीटना चाहते थे, यह भांपकर एसीएम योगेंद्र कुमार अकेले ही भीड़ के बीच घुसे और दरोगा को बाहर निकाला। उधर, एसएसपी कार्यालय से यह घटना देख रहे सिपाहियों का पारा भी चढ़ गया। उन्होंने भी जवाबी बयानबाजी शुरू कर दी। एसपी व सीओ आगे आए तो उनसे हटने को कहने लगे। यह देख वकील भी सिपाहियों की ओर लपके तो बार एसोसिएशन अध्यक्ष सतेंद्र द्विवेदी, महामंत्री दिनेश शुक्ला, पूर्व महामंत्री नरेशचंद्र त्रिपाठी, अनूप कुमार द्विवेदी, जितेंद्र सिंह तोमर बीच में आ गए और रोका। माहौल बिगड़ते देख छावनी सीओ डॉ. पवित्रमोहन त्रिपाठी व सीओ स्वरूप नगर सुशील घुले ने सिपाहियों को शांत रहने का आदेश दिया। दोनों पक्षों की समझदारी से विवाद होने से टल गया।

नहीं पहुंचे पुलिस के पैरोकार
वकील-पुलिस विवाद की गंभीरता देखते हुए शुक्रवार को कोर्ट में भी पुलिस के पैरोकार नहीं पहुंचे। पेशी के लिए जेल से बंदियों को भी नहीं लाया गया था। उनका जेल में ही रिमांड लिया गया। वादकारियों को भी तारीखें दे दी गई।

सोमवार को भी हड़ताल
बार एसोसिएशन अध्यक्ष के मुताबिक आल इंडिया बार काउंसिल ने घटना के विरोध में हड़ताल का आह्वान किया है, लिहाजा वकील सोमवार को भी हड़ताल पर रहेंगे। माह के दूसरे शनिवार फिर उसके बाद रविवार की छुंट्टी के कारण कचहरी में अवकाश रहेगा।


Check Also

युवती को बंधक बनाकर छह लोगों ने किया सामूहिक बलात्कार, घटनाक्रम का बनाया वीडियो

मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत एक युवती को बंधक बनाकर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *