Sunday , 25 August 2019
खास खबर
Home >> कुछ हट के >> साल में एक बार खुलता है ये मंदिर, जहां विराजमान हैं 100 साल से बड़े नाग देवता

साल में एक बार खुलता है ये मंदिर, जहां विराजमान हैं 100 साल से बड़े नाग देवता


भारत के मंदिरों की बात करें तो आपक एक से एक मंदिर देखने को मिलते हैं. इसी एक साथ मंदिर के काफी रहस्य भी जुड़े होते हैं. भारत में इतने मंदिर मिलते हैं जहां हर मंदिर के साथ रहस्य बना हुआ है. यहां दार्शनिक स्थलों में मध्यप्रदेश में स्थित उज्जैन शहर का भी नाम उल्लेखित है उज्जैन शहर में ऐसे कई मंदिर है जहां लोग दर्शन करने के लिए जाते है उज्जैन में ऐसा एक मंदिर और है ये मंदिर साल में एक बार ही खुलता है यह मंदिर नागचंद्रेश्वर के नाम से जाना जाता है. ये मंदिर भी काफी प्रसिद्द है जिसके चलते यहां दर्शन के लिए लोग दूर दूर से आते हैं. 

4 घंटो के लिए खुलते है पट

इस मंदिर के बारे में बता दें, यहां नागपंचमी के दिन लाखो भक्तो कि भीड़ जमा हो जाती है इस मंदिर के पट सिर्फ 24 घंटो के लिए खुले होते है उसके बाद इन्हें बंद कर दिया जाता है. यह प्रतिमा नेपाल से लायी हुई है और उज्जैन के अलावा ऐसी प्रतिमा कहीं और देखने को नहीं मिलेगी, इस मंदिर कि ऐसी मान्यता है कि नागपंचमी के दिन नागदेवता खुद इस मंदिर में निवास करते है और किस्मत वालों को ही इस एक हज़ार वर्षीय नागदेवता के दर्शन होते है. 

आते है कई नागदेवता 

इतना ही नहीं, इस मंदिर में 100 साल से भी अधिक आयु के नागदेवता निवास करते है और यह साल में सिर्फ एक बार ही दर्शन देते है, इस मंदिर में 11वी शाताब्दी कि अदभुद प्रतिमा विराजमान है इसमें नागचंद्रेश्वर फन फैलाए हुए है, और नाग आसन पर शिव-पार्वती विराजमान है. हर साल इस मंदिर में काफी भिड़ देखने को मिलती है.


Study Mass Comm