Sunday , 25 August 2019
खास खबर
Home >> बिज़नेस >> जब पैसा लगाने, खर्च करने और बचत करने की बात आती है, तो लोग कुछ पुराने मिथकों पर ध्यान देते हैं

जब पैसा लगाने, खर्च करने और बचत करने की बात आती है, तो लोग कुछ पुराने मिथकों पर ध्यान देते हैं


 जब पैसा लगाने, खर्च करने और बचत करने की बात आती है, तो लोग कुछ पुराने मिथकों पर ध्यान देते हैं। निवेश, खर्च करने की शैली और पैसे बचाने के संबंध में कई कथन और मिथक हैं जो वास्तव में सही नहीं हैं। उपलब्धता और धन की आवश्यकता की तेजी से बदलती दृश्य में कोई ऐसी एक बात नहीं हो सकती जो सभी व्यक्ति पर लागू हो। हम इस खबर में आपको ऐसे ही मिथक से दूर करने की कोशिश कर रहे हैं।

निवेश के लिए ज्यादा पैसे की है आवश्यकता: जब निवेश की बात आती है, तो लोगों को लगता है कि एक बड़ी राशि की आवश्यकता है अन्यथा निवेश करने का कोई मतलब नहीं है। यह बिलकुल झूठ है। एक व्यक्ति 100 रुपये से कम में निवेश और बचत शुरू कर सकता है। आप धीरे धीरे कम पैसों से निवेश शरू कर सकते हैं और बाद में उसे बढ़ा सकते हैं।

अधिक क्रेडिट कार्ड से आप कर्ज में फंस सकते हैं: क्रेडिट कार्ड की संख्या जितनी अधिक होगी, आपका कर्ज उतना ही ज्यादा होगा, यह दावा भी गलत है। एक व्यक्ति के कर्ज में जाने के पीछे का कारण उसके खर्च की आदत और कर्ज के रीपेमंट पर निर्भर करता है। क्रेडिट कार्ड की अधिक संख्या से भी आप एक समय बाद अच्छे लोन के हक़दार हो सकते हैं।

बड़ी ऑनलाइन बिक्री में ज्यादा छूट मिलती है: आकर्षक छूट की पेशकश करने वाले सभी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों के बारे में लोगों को एक भ्रम है। ज्यादातर लोगों को लगता है कि यह सही समय है मार्केटिंग करने का। इसके बाद सही समय नहीं आएगा और ये छूट आगे नहीं मिलने वाली। सभी ऑनलाइन दुकानदारों को इस तथ्य से अवगत होना चाहिए कि सभी ऑनलाइन बिक्री काफी हद तक समान हैं। उत्पादों की कीमतें एक छोटे स्तर पर बदल जाती हैं।

म्युचुअल फंड एसआईपी सुरक्षित है: लोगों में एक आम धारणा बनी है कि म्युचुअल फंड एसआईपी सुरक्षित है और चाहें कुछ भी हो जाए इसमें लगाया पैसा नहीं डूबेगा। बता दें कि म्युचुअल फंड का सब कुछ बाजार पर निर्भर करती है। ऐसा नहीं है कि म्युचुअल फंड में निवेश कर दिया तो यह पूरी तरह जोखिम रहित है।


Study Mass Comm