Home >> Exclusive News >> यूपी में रायबरेली के नजदीक ट्रेन हादसा : 38 की मौत, 150 घायल

यूपी में रायबरेली के नजदीक ट्रेन हादसा : 38 की मौत, 150 घायल


69502-trainnew

रायबरेली (उप्र),(एजेंसी) 21 मार्च । जिले के बछरावां रेलवे स्टेशन के पास शुक्रवार को देहरादून-वाराणसी जनता एक्सप्रेस का इंजन और दो डिब्बे पटरी से उतर जाने से कम से कम 38 यात्रियों की मौत हो गयी और लगभग 150 अन्य घायल हो गये।

दुर्घटना की असल वजह का पता नहीं लग पाया है लेकिन घटनास्थल पर पहुंचे अधिकारियों का कहना है कि ट्रेन संभवत: सिग्नल पार कर आगे बढ गयी जबकि उसे रूकना चाहिए था। ऐसा ब्रेक फेल होने के कारण हो सकता है। दुर्घटना सुबह लगभग सवा नौ बजे हुई। बछरावां उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 50 किलोमीटर दूर है।

राज्य के मंत्री मनोज कुमार पाण्डेय ने कहा, ‘‘मृतकों की संख्या 38 हो गयी है। 34 व्यक्तियों की मौत रायबरेली में हुई जबकि चार घायलों को लखनऊ लाये जाने पर डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। अधिकारियों को मृतकों की संख्या बढने की आशंका है।’’ अधिकारियों ने बताया कि सबसे अधिक मौतें जनरल डिब्बे में हुई। दूसरा डिब्बा गार्ड का था, जो संभवत: खाली था। यदि यह डिब्बा खाली नहीं होता तो मृतकों की संख्या और बढ़ सकती थी।

रेलवे प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने दिल्ली में बताया कि आरंभिक रिपोर्ट के मुताबिक ट्रेन को बछरावां स्टेशन पर रूकना था लेकिन वह सिग्नल से आगे निकल गयी, जिससे इंजन और उससे लगे दो कोच पटरी से उतर गये।

रेलवे ने जांच के आदेश दे दिये हैं और मृतकों के परिजनों को दो दो लाख रुपए, गंभीर रूप से घायलों को पचास पचास हजार रुपए और मामूली घायलों को बीस बीस हजार रुपए मुआवजे का ऐलान किया है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दुर्घटना पर दु:ख प्रकट करते हुए मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये तथा घायलों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है दुर्घटना सुबह लगभग नौ बजकर 15 मिनट की है। जैसे ही दुर्घटना की खबर फैली, आसपास के गांव वाले राहत और बचाव कार्यों में जुट गये। राहत और बचाव कार्य में देरी के लिए स्थानीय लोगों ने रेलवे और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी भी की।

दुर्घटना की वजह से लखनऊ-वाराणसी खंड पर ट्रेनों का परिचालन बाधित हो गया। परिचालन बहाल करने के लिए रेलवे की टीमें जुटी हुई हैं। घायल यात्रियों को रायबरेली के जिला अस्पताल ले जाया गया। लखनऊ और रायबरेली से राहत टीमें घटनास्थल पर पहुंचीं और यात्रियों को प्राथमिक चिकित्सा एवं पेयजल मुहैया कराया। बोगियों को अलग करने के लिए क्रेन की मदद ली गयी।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि कई एंबुलेंस मौके पर पहुंचीं और घायल यत्रियों को लेकर अस्पतालों के लिए रवाना हुई।

यातायात के भारी दबाव और वीआईपी आवाजाही की वजह से लखनउ-रायबरेली मार्ग पर जाम लग गया, जिसके बाद पुलिस ने वाहनों को दूसरे मार्गों की ओर मोड दिया। राहत और बचाव कार्यों का जायजा लेने घटनास्थल पर पहुंचे प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अहमद हसन ने पहले बताया था कि 27 लोगों की मौके पर ही मौत हो गयी थी, जबकि चार अन्य ने लखनऊ के ट्रामा सेंटर में दम तोड दिया।

हालांकि बाद में मौके पर पहुंचे प्रदेश सरकार के ही एक अन्य मंत्री मनोज कुमार पांडेय ने कहा कि मृतकों की संख्या बढकर 38 हो गयी है।

ऊधर, लखनऊ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी एसएनएस यादव ने कहा, ‘‘लखनऊ में 150 से अधिक बिस्तर तैयार है ताकि घायलों के इलाज में कोई बाधा नहीं आने पाये। दुर्घटना में घायल हुए लोगों के इलाज के लिए चिकित्सा टीमें तैयार हैं।’’ उन्होंने कहा कि घायलों और एंबुलेंस को निर्धारित जगह तक पहुंचाने के लिए हर अस्पताल में एक पैरा मेडिकल स्टाफ की तैनाती की गयी है।

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेलवे सुरक्षा आयुक्त (उत्तरी सर्किल) द्वारा दुर्घटना की जांच के आदेश दिये हैं ताकि ट्रेन के पटरी से उतरने की असल वजह का पता लगाया जा सके। दुर्घटना स्थल रायबरेली से 30 किलोमीटर दूर है। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ए के मित्तल सहित वरिष्ठ रेलवे अधिकारी और रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा राहत और बचाव कार्यों की निगरानी के लिए पहुंच चुके हैं।

राय बरेली में पटरी से उतरी रेलगाड़ी, 38 की मौत
प्रत्यक्षदर्शी पैंतीस वर्षीय शिव मोहन समय बचाने के लिए बछरावां रेलवे स्टेशन पर चलती ट्रेन से ही कूद पडा। किस्मत उसके साथ थी और उसकी जान बच गयी क्योंकि वह ट्रेन की उसी बोगी पर सवार था, जिसमें सबसे अधिक लोगों की मौत हुई।

उसने बताया कि ऐसा लगा कि ट्रेन के ब्रेक फेल हो गये हैं। ड्राइवर और गार्ड संभवत: वाकी टाकी पर स्टेशन मास्टर से बात कर रहे थे और मेन लाइन पर ट्रेन को देने की मांग कर रहे थे। मोहन ने बताया कि गार्ड और ड्राइवर बार बार दरवाजे पर खडे होकर खतरे का सिग्नल दे रहे थे लेकिन एक बार ट्रेन ‘ठोकर लाइन’ पर गयी तो ट्रेन को रोकने के लिए लगाये गये पाइप से इंजन टकराया और दो कोच एक दूसरे के उपर चढ गये।

रायबरेली लोकसभा क्षेत्र से सांसद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दुर्घटना पर गहरे दु:ख का इजहार करते हुए मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट की है।


Check Also

मुकदमा दर्ज: जैतपुरा की गायिका ने बाहुबली विधायक विजय मिश्र उनके पुत्र और भतीजे के बेटे पर सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाया

वाराणसी के जैतपुरा की एक गायिका ने ज्ञानपुर के बाहुबली विधायक विजय मिश्र, उनके पुत्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *