Tuesday , 29 September 2020
Home >> Breaking News >> मित्रा का संसद सदस्यता से इस्तीफा, कांग्रेस में जाएंगे

मित्रा का संसद सदस्यता से इस्तीफा, कांग्रेस में जाएंगे


mitra

नई दिल्ली, एजेंसी । तृणमूल कांग्रेस नेतृत्व पर ‘हिटलर के नाजी शासन की भाषा बोलने’ और सत्ता में आने के बाद लोगों से किए वादों से पीछे हटने का आरोप लगाने वाले सांसद सोमेन मित्रा 21 जनवरी से दोबारा कांग्रेस में शामिल होने को तैयार हैं। उन्होंने बुधवार को अपनी लोकसभा सीट से इस्तीफा दे दिया।
मित्रा ने कहा कि अगर पार्टी आलाकमान की इच्छा हुई तो उनकी आगामी लोकसभा चुनावों में कांग्रेस के टिकट पर लड़ने की इच्छा है।
मित्रा ने कहा, “तृणमूल कांग्रेस लोकतंत्र को ‘पार्टीतंत्र’ से मुक्त कराने का वादा कर सत्ता में आई। लेकिन अब पार्टी नेतृत्व जिस भाषा का प्रयोग कर रहा है उसमें हिटलर की नाजी जर्मनी की प्रतिध्वनि सुनाई देती है। लेकिन कोई विरोध नहीं हो रहा है।”
वर्ष 2009 के चुनाव में डायमंड हर्बर लोकसभा सीट से चुनाव जीतने वाले मित्रा (70) ने कहा, “हमने कहा था कि हम बदलाव चाहते हैं, बदला नहीं। लेकिन बदले की कार्रवाई के कई उदाहरण सामने हैं।”
कांग्रेस नेतृत्व ने पूर्व में घोषणा की कि पूर्व राज्य कांग्रेस अध्यक्ष मित्रा 21 जनवरी को दोबारा पार्टी में शामिल होंगे।
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की आलोचना करते हुए मित्रा ने कहा कि विपक्ष के नेता के तौर पर वे हर मामले की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच की मांग करती रही। ‘लेकिन जब से सत्ता में आई ऐसी मांग को परे हटाती चली आ रही हैं।’
करोड़ों रुपये के शारदा चिटफंड घोटाला मामले में गिरफ्तार तृणमूल सांसद कुणाल घोष पर आरोपों के बारे में मित्रा ने कहा, “उन्होंने मुख्यमंत्री सहित कई नेताओं का नाम लिया। ममता खुद को ईमानदारी का प्रतीक होने का दावा करती हैं। अपनी ईमानदारी साबित करने के लिए उन्हें सीबीआई जांच का आदेश देना चाहिए था और यही काम उन्होंने नहीं किया।”
बंगाल के मशहूर नेता ने उत्तरी 24 परगना जिले के माध्यमग्राम में एक किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म और उसकी मौत की घटना को बंगाल के लिए ‘शर्म का विषय बताया।’
बनर्जी पर कड़ा प्रहार करते हुए मित्रा ने कहा, “अब मैं एक मांग सुन रहा हूं। बनर्जी को देश पर राज करना चाहिए। लेकिन वे दुनिया पर भी राज करें तो भी मैं ऐसे शासन का हिस्सा नहीं हो सकता।”
मित्रा की पार्टी में वापसी का स्वागत करते हुए रेल राज्य मंत्री अधीर रंजन चौधरी ने कोलकाता में कहा, “यह जंगल के राजा की वापसी है। यह पार्टी के लिए बेहतर रहेगा।”


Check Also

बीजेपी सांसद तेजस्वी सूर्या ने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की

भाजपा युवा मोर्चा के नवनियुक्त अध्यक्ष और सांसद तेजस्वी सूर्या ने गृह मंत्री अमित शाह …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *