Home >> In The News >> नवरात्र का पहला दिन, मंदिरों में उम़डे श्रद्घालु

नवरात्र का पहला दिन, मंदिरों में उम़डे श्रद्घालु


news-first-day-of-navratri-crowd-of-believers-in-temple-1-46667-46667-783
लखनऊ ,(एजेंसी) 21 मार्च । चैत्र नवरात्र की शुरूआत पर शनिवार को काशी सहित उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों के मंदिरों में भक्तों की भी़ड उम़ड रही है। चैत्र नवरात्र के पहले दिन देवी दुर्गा के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा हो रही है। राज्य के दूर-दराज इलाके से श्रद्घालु देवी मां के दर्शन के लिए काशी पहुंच रहे हैं और परिवार की सुख-शांति के लिए मन्नतें मांग रहे हैं।

काशी के अलावा इलाहाबाद, लखनऊ , कानपुर, मेरठ और झांसी में मंदिरों के बाहर सुबह से ही श्रद्घालुओं की लंबी कतारें देखी गई। पुलिस प्रशासन ने किसी भी तरह की अप्रिय घटना से निपटने के लिए मंदिर परिसरों के बाहर सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया है। लखनऊ के मनकामेश्वर मंदिर के पुजारी छोटेलाल तिवारी ने बताया कि भगवती दुर्गा का पहला स्वरूप शैलपुत्री का है। हिमालय के यहां जन्म लेने से उन्हें शैलपुत्री कहा गया। इनका वाहन वृषभ है।

तिवारी ने बताया कि उनके दाएं हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल है। इन्हें पार्वती का स्वरूप भी माना गया है। ऎसी मान्यता है कि देवी के इस रूप ने ही शिव की कठोर तपस्या की थी और इनके दर्शन मात्र से वैवाहिक कष्ट दूर होते हैं। आचार्य अरविंद त्रिपाठी ने बताया कि नवरात्रि में देवी की पूजा का खास महत्व है। दुर्गा का अर्थ है परमात्मा की वह शक्ति, जो स्थिर और गतिमान है, लेकिन संतुलित भी है। किसी भी तरह की साधना के लिए शक्ति का होना जरूरी है। यह शक्ति हमें देवी मां की पूजा करने से मिलती है।


Check Also

भगवान शिव का अनन्य भक्त था विश्रवा ऋषि का पुत्र दशानन रावण : धर्म

दशहरे का पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत के पर्व के रुप में मनाया जाता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *