Home >> Breaking News >> नेतन्याहू को रिव्लिन से मिली नई सरकार के गठन की मंजूरी

नेतन्याहू को रिव्लिन से मिली नई सरकार के गठन की मंजूरी


70127-netanyahu7
यरुशलम,(एजेंसी) 26 मार्च । इजरायली राष्ट्रपति रियुवेन रिव्लिन ने प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू को पिछले सप्ताह मिली अप्रत्याशित चुनावी जीत को देखते हुए उन्हें नई सरकार के गठन के लिए मंजूरी दे दी है।

रिव्लिन ने कल आधिकारिक चुनावी नतीजे प्राप्त करने के बाद नेतन्याहू को अगली सरकार बनने का काम सौंप दिया। इन चुनावी नतीजों में नेतन्याहू की लिकुड को 30 सीटें मिली हैं, जो कि सबसे ज्यादा हैं। हालांकि इस्राइली राष्ट्रपति ने नेतन्याहू को अगली सरकार के गठन का काम सौंपने से पहले अरब-इस्राइली मतदाताओं के संबंध में उनकी विवादपूर्ण टिप्पणी की आलोचना की थी।

उन्होंने कहा कि चुनाव हमारे लोकतंत्र का एकमात्र जनमत संग्रह है। हमें शर्म आनी चाहिए अगर हम मतदान के लोकतांत्रिक कर्तव्य को निभाने को एक अभिशाप या किसी ऐसी चीज की तरह देखें, जिसके खिलाफ चेतावनी दी जानी चाहिए। उन्होंने चेतावनी दी, ‘जो मतों से डरते हैं, उनका अंत सड़कों पर पथराव में होगा। इजरायली राष्ट्रपति ने कहा कि हर ओर से, ऐसी चीजें कही गईं, जो कि एक यहूदी और लोकतांत्रिक देश में कही नहीं जानी चाहिए। आग की लपटों को हवा देने से किसी का भला नहीं होता। आग सिर्फ गर्मी ही नहीं देती, इसके लपटों का रूप धारण करने का खतरा भी है। आज उन जख्मों को भरने की शुरुआत करने का समय है।

नेतन्याहू ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि वह अपने सामने फलस्तीन राष्ट्र का गठन नहीं होने देंगे और इसके साथ ही उन्होंने यह चेतावनी दी थी कि अरब मतदाता ‘झुंडों’ में मतदान के लिए जा रहे हैं। नेतन्याहू के कटुतापूर्ण चुनाव प्रचार के कारण अमेरिका से उनके संबंधों में तनाव आ गया और देश के अरब अल्पसंख्यकों की ओर से उन पर नस्लभेद के आरोप लगने लगे। हालांकि नेतन्याहू ने खुद को सभी इस्राइली नागरिकों का प्रधानमंत्री घोषित करते हुए नुकसान की भरपाई की कोशिश की।

उन्होंने कहा कि मैं खुद को आप में से हर एक व्यक्ति के प्रधानमंत्री के रूप में देखता हूं, फिर चाहे आपने मुझे चुना हो या नहीं। चुनाव के दौरान समाज के विभिन्न धड़ों में जो तनाव पैदा हो गए हैं, मैं उसे हटाने के प्रयास करूंगा। नेतन्याहू ने कहा कि मुझे अगली गठित सरकार में इस मार्ग पर डटे रहना है। अगली सरकार एक यहूदी और लोकतांत्रिक देश की सरकार होगी, जो सभी नागरिकों को समान अधिकार देगी, फिर चाहे उनके धर्म, नस्ल या लिंग कोई भी हो। ऐसा हमेशा होता रहा है और यह हमेशा होता रहेगा।


Check Also

महाराष्ट्र और मुंबई पुलिस का अपना एक अधिकार है जो संविधान ने दिया है : शिवसेना सांसद संजय राउत

महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने राज्य मामलों की जांच के लिए केंद्रीय जांच एजेंसी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *