Home >> राज्य >> धारा 370 पर बागी रुख अपनाने के पीछे जदयू की मजबूरी

धारा 370 पर बागी रुख अपनाने के पीछे जदयू की मजबूरी


जम्मू-कश्मीर में धारा 370 के प्रावधानों को हटाए जाने के मसले पर संसद में खुलकर विरोध दर्ज करा चुके जनता दल यूनाइटेड(जदयू) के सुर अब नरम पड़ गए हैं. बीजेपी के इस सहयोगी दल ने अब कहा है कि जब संसद में विरोध के बावजूद धारा 370 के अहम प्रावधान हट गए तो अब इसे स्वीकार किया जाना चाहिए. वहीं सदन में धारा 370 के मसले पर सरकार के विरोध के अपने निर्णय का बचाव करते हुए जेडीयू के संगठन महासचिव आरसीपी सिंह ने कहा कि स्वर्गीय जॉर्ज फर्नांडिस की आत्मा को ठेस न पहुंचे, इसलिए जेडीयू ने जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने का संसद में विरोध किया था. सूत्र बता रहे हैं कि धारा 370 पर सरकार के फैसले को जिस तरह से देश में जनता का व्यापक समर्थन मिला. यहां तक कि मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के कई नेताओं ने भी पार्टी लाइन से परे हटकर इसका समर्थन किया. उससे जनता दल यूनाइटेड को लगा कि अगर अब भी वह विरोध का स्टैंड लेती है तो फिर यह जनमत के खिलाफ जाने वाली बात होगी. जिसका आगे चलकर नुकसान उठाना पड़ सकता है. वहीं गठबंधन में भी दरार पड़ सकती है. सूत्रों का कहना है कि धारा 370 पर बागी रुख अपनाने के पीछे जदयू की मजबूरी थी. दरअसल, बिहार में नीतीश कुमार की सेक्युलर छवि के कारण बीजेपी से नजदीकियों के बावजूद जदयू को मुस्लिमों का भी कुछ वोट मिलता है.चूंकि कश्मीर मुस्लिम डोमिनेटेड एरिया है. ऐसे में जदयू को लगा कि स्थानीय मुस्लिमों की भावनाओं भी कश्मीरी मुस्लिमों के साथ जुड़ीं हो सकती हैं. इस नाते इसका समर्थन करते हुए नहीं दिखना चाहिए. कुछ ऐसा ही रुख तीन तलाक पर भी जदयू ने अपनाया था.


Check Also

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोविड-19 रोगियों के लिए जीवन सेवा ऐप हुआ लॉन्च

दिल्ली के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री, सत्येंद्र जैन ने शहर के अस्पतालों और स्वास्थ्य …