Home >> Politics >> नरेंद्र मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के सबसे बड़े संकटमोचक अरुण जेटली: RIP

नरेंद्र मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के सबसे बड़े संकटमोचक अरुण जेटली: RIP


बीजेपी नेता अरुण जेटली ने आज दोपहर 12.07 बजे एम्स में आखिरी सांस ली. गंभीर बीमारी से जूझ रहे जेटली 9 अगस्त से एम्स में ही भर्ती थे. नरेंद्र मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के सबसे बड़े संकटमोचक अरुण जेटली स्वास्थ्य कारणों से इस बार चुनाव से न सिर्फ दूर रहे बल्कि सरकार में किसी भी तरह का कोई पद नहीं लिया. हालांकि बीमारी के बावजूद वह लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान सक्रिय रहे. सोशल मीडिया के जरिए विपक्ष पर लगातार हमला करते रहे.

नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में अरुण जेटली वित्त मंत्री रहे. इस दौरान उन्होंने रक्षा मंत्रालय का कार्यभार भी अस्थाई रूप से संभाला. यह अलग बात है कि जेटली अमृतसर से लोकसभा चुनाव हार गए थे, लेकिन उनकी योग्यता को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें अपने मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया. मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में उनकी छवि दूसरे नंबर के नेता के तौर पर थी.


Check Also

BJP के बिहार प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने कहा- दीदी गईं, बंगाल में खेला होना तय

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बिहार प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल (Dr. Sanjay Jaiswal) ने …