Home >> U.P. >> बड़ी खबर: राम जन्म भूमि परिसर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास 3 दिन के लिए होंगे होम क्वारनटीन

बड़ी खबर: राम जन्म भूमि परिसर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास 3 दिन के लिए होंगे होम क्वारनटीन


अयोध्या में राम मंदिर के लिए होने वाले भूमि पूजन की तैयारी चल रही है. लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि ये आयोजन ऐसे दौर में होने जा रहा है जब भारत समेत पूरी दुनिया को कोविड-19 जैसी महामारी का सामना करना पड़ रहा है. अयोध्या भी इस महामारी से अछूता नहीं है. यहां तक कि मंदिर परिसर के एक पुजारी और सुरक्षा से जुड़े कुछ लोगों के वायरस से संक्रमित होने ने चिंता बढ़ा दी.

वहीं, प्रशासन का कहना है कि टेस्टिंग पहले की तुलना में कहीं ज्यादा होने की वजह से पॉजिटिव केसों का बढ़ना स्वाभाविक है. रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास का कहना है कि मंदिर परिसर में कोरोना फैले होने की जो आशंका फैलाई जा रही है वो गलत है.

कोविड टेस्टिंग में रामजन्म भूमि परिसर और आसपास 15 लोग संक्रमित पाए गए. परिसर के अंदर एक सहायक पुजारी और चार पुलिस-LIU (लोकल इंटेलीजेंस यूनिट) से जुड़े लोग हैं. बाकी 10 संक्रमित पुलिस वाले परिसर के क्षेत्र के बाहर के दायरे में तैनात थे.

पिछले कुछ दिनों से लगातार अयोध्या में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. अयोध्या जिला प्रशासन के मुताबिक, मरीजों की संख्या बढ़ने से घबराने जैसी कोई बात नहीं है. दरअसल, अयोध्या की संवेदनशीलता को देखते हुए यहां टेस्टिंग पहले की तुलना में कहीं अधिक की जा रही है, इस वजह से कोरोना पॉजिटिव मरीजों का डिटेक्ट होना स्वाभाविक है.

खास कर 5 अगस्त के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री की मौजूदगी की संभावना को देखते हुए सुरक्षा प्रोटोकॉल के तहत शहर में टेस्टिंग को बढ़ाया गया है. अयोध्या के जिलाधिकारी अनुज कुमार झा का कहना है कि कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या में वृद्धि होना अधिक टेस्टिंग का नतीजा है. कई जगह बाकायदा कैंप लगाकर लोगों के टेस्ट किए जा रहे हैं.

आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले हफ्ते तक, अयोध्या में रोजाना लगभग 600 टेस्ट हो रहे थे, लेकिन पिछले तीन दिनों से जिले में लगभग 2,000 टेस्ट हर दिन हो रहे हैं.

अयोध्या में टेस्टिंग बढ़ने से कई बिना लक्षण वाले केस सामने आ रहे हैं. बता दें कि राम मंदिर परिसर में सुरक्षा के लिए तैनात सभी पुलिसकर्मियों के साथ-साथ परिसर के सभी पुजारी और कर्मचारियों की भी कोरोना टेस्टिंग की जा चुकी है. परिसर के अंदर 5 लोगों के टेस्ट पॉजिटिव आए. इन सभी का रैपिड एंटीजन टेस्ट किया गया था. पुष्टि के लिए RT-PCR टेस्ट कराए जा रहे हैं. एहतियातन सभी लोगों को होम क्वारनटीन में भेज दिया गया है.

मंदिर के पुजारी प्रदीप दास का टेस्ट भी पॉजिटिव आया. उनका कहना है कि वो टेस्ट से संतुष्ट नहीं हैं. पुजारी प्रदीप दास ने कहा, ‘राम जन्मभूमि परिसर और आसपास मेरे समेत कई लोग कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाए गए. जिन्हें सर्दी खराश थी उनको भी पॉजिटिव बताया जा रहा है. हमारी जांच दोबारा होनी चाहिए. जिन लोगों को कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाया गया है, उन सब के नाम मुझे पूरी तरह याद नहीं है. लिस्ट बनी है उसमें सब नाम लिखे होंगे. मुझे छोड़ कर बाकी सारे पुलिस वाले हैं. जिनमें एक महिला दारोगा भी है. जांच बहुत सारे लोगों की हुई है.’

राम जन्म भूमि परिसर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास का टेस्ट निगेटिव आया है. हालांकि प्रशासन ने उन्हें भी सावधानी के तौर पर 3 दिन के लिए होम क्वारनटीन में रहने के लिए कहा है. ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि सहायक पुजारी प्रदीप दास का टेस्ट रिजल्ट पॉजिटिव आया है.

आचार्य सत्येंद्र दास ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘देखिए राम जन्मभूमि परिसर में सभी की जांच हो गई है. जितने पुजारी हैं, जितने कर्मचारी हैं, बाकी जो मानस भवन में रह रहे हैं, परिसर में रह रहे हैं सबकी जांच हो गई है. कुछ लोगों को (कोरोना) हुआ है लेकिन वह पुलिस वाले हैं या सुरक्षा कर्मचारी हैं, उनकी अलग बात है. लेकिन हमारे मंदिर से संबंधित लोग संक्रमित नहीं हैं. किसी भी प्रकार का ऐसा कोई पॉजिटिव केस नहीं मिला है. और जिन लोगों की जांच हुई है वह तभी निगेटिव पाए गए हैं. इसलिए परिसर में कोरोना वायरस फैलने की शंका जो लोग करते हैं वह गलत है.’

शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के टॉप अधिकारियों की बैठक अयोध्या में हुई. इसमें मुख्य सचिव, गृह सचिव, पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) के साथ जोन और जिले के तमाम आला अधिकारी शामिल हुए. बैठक में अयोध्या की सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ कोविड प्रोटोकॉल पर भी चर्चा की गई.

माना जा रहा है कि सरकार अयोध्या के भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए विशेष अनुमति देगी. ऐसा किए जाने से सीनियर सिटीजन की श्रेणी में आने वाले नेताओं का भी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होना हो सकेगा. राज्य सरकार का कहना है कि अयोध्या में कोविड प्रोटोकॉल का पूरी तरह पालन किया जा रहा है.


Check Also

योगी सरकार के कोरोना संक्रमित कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक को सांस लेने में तकलीफ अब PGI में भर्ती कराया गया

प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक को सांस लेने में तकलीफ …