Home >> Breaking News >> रैलियों से नहीं विकास से मुकाबला करें अखिलेश, मुलायम : मोदी

रैलियों से नहीं विकास से मुकाबला करें अखिलेश, मुलायम : मोदी


Modi
मेरठ,एजेंसी-3 फरवरी। मेरठ के शताब्दी मैदान में पार्टी की आयोजित शंखनाद रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बिजली का इतना बुरा हाल है कि यहां बिजली जाना नहीं, बल्कि बिजली आना खबर है।
उन्होंने कहा, “भाई अखिलेश और मुलायम सिंह जी राजनीति अपनी जगह है। आप करिए, लेकिन आप मोदी का मुकाबला रैलियों से बल्कि बिजली व्यवस्था, कानून व्यवस्था, महिलाओं की सुरक्षा बेहतर करके और विकास कर कीजिए।”
उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि सपा के ये नेता ऐसा नहीं करेंगे क्योंकि इन्हें विकास करना ही नहीं है।”
उन्होंने कहा, “पश्चिमी उत्तर प्रदेश जो राज्य की अर्थव्यवस्था को गति देता है। उसका आज बुरा हाल है। जब इस क्षेत्र का यह हाल तो राज्य के बाकी हिस्सों क्या हाल होगा अंदाजा लगाना आसान है।”
मोदी ने कहा, “यहां कानून-व्यवस्था की बुरी स्थिति है। क्या आप लोगों को भरोसा है कि सपा के राज में आपकी बहन-बेटी सुरक्षित है? यहां कानून व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। क्या आप लोग अपराध और दंगा मुक्त उत्तर प्रदेश चाहते है? भाजपा शांति और भाईचारे में यकीन रखती है। आप लोग मुझ पर भरोसा करिए जिस तरह गुजरात को दंगा मुक्त किया वैसे हम उत्तर प्रदेश को भी दंगा मुक्त बनाएंगे।”
गन्ना किसानों के मुद्दे पर अखिलेश सरकार को निशाने पर लेते हुए मोदी ने कहा, “यहां 60 लाख से ज्यादा गन्ना किसानों के घर खाने के लाले पड़े हैं। चीनी मिलें उन्हें गन्ने के पैसे नहीं दे रहीं। यह हालत देखकर लगता है कि आज अगर चौधरी चरण सिंह और महेंद्र सिंह टिकैत होते तो इस सरकार को नाको चने चबवा देते।”
मोदी ने कहा, “राम मनोहर लोहिया के शिष्यों को किसानों की चिंता नहीं है। यहां किसान त्रस्त, चीनी मिल मालिक मस्त और सरकार भ्रष्ट है।”
सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव से उनके बयान पर जवाब मांगते हुए मोदी ने कहा, “नेता जी ने हाल में बयान दिया कि उत्तर प्रदेश में लोककल्याण का बजट गुजरात के कुल बजट से ज्यादा है। लगता है कि कभी-कभी लोगों के मुंह से सही बात निकल जाती है। मैं पूछना चाहता हूं कि नेता जी मेरे यहां बजट कम होने के बावजूद लोग क्यों खुशहाल हैं। आपके यहां बजट ज्यादा होने के बावजूद लोग बर्बाद क्यों हो रहे हैं। जवाब दो नेता जी कि जनता के पैसे कहां जा रहे हैं। क्या जनता के पैसे से नेताओं की जेबें भारी हो रही है।”
मोदी ने कहा कि मेरठ की आबादी आज जिस तरह से बढ़ रही है उस हिसाब से लोगों को सुविधाएं नहीं मिल रही है। स्वतंत्रता संग्राम का केंद्र होने के कारण अंग्रेजों ने गुस्से और नाराजगी के चलते इस शहर को विकास से दूर रखा था, लेकिन आज आजाद भारत की सरकारों (केंद्र और राज्य) को मेरठ से क्या नाराजगी है कि जो वे शहर को अच्छी सड़कें, रेल सुविधाओं से दूर किए बैठी हैं।
केंद्रीय मंत्री अजित सिंह का नाम लिए बगैर मोदी ने कहा कि आपके इलाके से उड्डयन मंत्री के होते हुए यहां हवाई अड्डा नहीं बन सका।
दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस पर हमला करते हुए मोदी ने कहा, “आज देश की राजधानी दिल्ली को वैश्विक शहर के रूप में विकसित किया जाना चाहिए। लेकिन पिछले कुछ समय से यहां ऐसी भाषा बोली जा रही है कि हमारा सिर शर्म से झुक गया है।”
उन्होंने कहा, “कभी विदेशी महिला के साथ बदलसूकी की जाती है। कभी मणिपुर की महिला के साथ दुर्व्यवहार होता है और कभी सोनिया गांधी की नाक के नीचे अरुणाचल प्रदेश के एक बेटे की बेरहमी से हत्या कर दी जाती है। ये बहुत गंभीर घटनाएं हैं।”
मोदी ने कहा कि, “पूवरेत्तर राज्यों के छात्र हमारे अपने हैं। दिल्ली में रहने वाले पूवरेत्तर के छात्रों और युवाओं को आवास और सुरक्षा दी जानी चाहिए, लेकिन दिल्ली की सरकार को इसकी चिंता नहीं है।”


Check Also

बैंक कर्मियों के संक्रमित होने पर बैंक कर्मचारी यूनियनों ने सरकार से रोस्टर प्रणाली लागू करने की मांग की….

कोरोना संक्रमण की चपेट में सरकारी कार्यालयों के साथ अब बैंक भी आ गए हैं। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *