जबलपुर,(एजेंसी)28 मई। ओह माय गॉड में परेश रावल ने अदालत में ईश्वर के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ी थी तो रियल लाइफ में एक शख्स ने माना कि मुसीबत के वक्त भगवान ने उसकी कोई मदद नहीं की। बस इसी बात से खफा होकर वह मंदिरों में ही चोरी की वारदात को अंजाम दे रहा है। पिछले 25 साल से मंदिरों में चोरी कर रहा यह आरोपी अब जाकर पुलिस की पकड़ में आया है।

Temple-Theft

मामला मध्य प्रदेश के सागर जिले का है। यहां पुलिस ने प्रेमसिंह राजगौड़ के शख्स को चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया। प्रेमसिंह से पूछताछ में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। प्रेमसिंह ने बताया कि वह पिछले 25 सालों से सिर्फ मंदिरों में ही चोरी करता है। सागर जिले में ऐसा कोई थाना क्षेत्र नहीं बचा जहां प्रेमसिंह ने मंदिरों को निशाना नहीं बनाया हो।

प्रेमसिंह ने पुलिस को मंदिरों में चोरी करने की वजह बताई तो वह सुनकर पुलिसकर्मी भी चौंक गए। अमूमन चोर मंदिरों को सॉफ्ट टारगेट समझकर निशाना बनाते रहे है, लेकिन प्रेमसिंह का मामला अलग है। उसने पुलिस को बताया कि 25 साल पहले जब परिवार पर संकट आया था, तब उसने भगवान के खूब हाथ जोड़े लेकिन उन्होंने मेरी प्रार्थना नहीं सुनी। तभी से उसका उनसे बैर हो गया।

15 साल की उम्र में बन गया चोर
प्रेमसिंह ने 15 साल की उम्र से मंदिरों में चोरी की वारदात करना शुरू कर दी थी। पहली बार उसने अपने गांव के समीप केसली गांव के जैन मंदिर में चोरी की थी। उसके बाद से लगभग 25 मंदिरों में चोरी कर चुका है। पुलिस की गिरफ्त में आने पर उसकी उम्र 40 बरस हो चुकी है। 25 साल में उसने दर्जनों मंदिरों को निशाना बनाते हुए कीमती सामान, नकदी और भगवान के आभूषण चोरी कर लिए।

पांच साल में पिता की मौत, चाचा से मिला धोखा
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रेमसिंह ने बताया कि जब वह पांच साल का था, तब सड़क हादसे में उसके माता-पिता की मौत हो गई थी। कुछ साल बाद पिता के नाम पर जो जमीन थी, वो चाचा ने हथिया लिया। वह जिन रिश्तेदारों के यहां रहता था, उन्होंने भी प्रताडि़त किया। भगवान ने उसकी कोई सहायता नहीं की।


Check Also

जाने कैसे कोरोना के बाद बदल गई थाईलैंड के स्कूल के बच्चों की जिंदगी

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को अपने कब्जे में ले लिया है. सभी इससे बचने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *