Home >> Breaking News >> मांझी का लालू को दो टूक,’गठबंधन चाहते हैं तो मुझे घोषित करें CM उम्मीदवार’

मांझी का लालू को दो टूक,’गठबंधन चाहते हैं तो मुझे घोषित करें CM उम्मीदवार’


नई दिल्ली,(एजेंसी)28 मई। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी किधर जाएंगे- इसको लेकर सस्पेंस बना हुआ है। आज पीएम नरेंद्र मोदी से जीतनराम मांझी ने मुलाकात की है। बीजेपी के कुछ और नेताओं से उनकी मुलाकात होनी है।

download (2)

लालू यादव भी मांझी को साथ आने के लिए बुला रहे हैं लेकिन मांझी ने इसके लिए उनके सामने शर्त रख दी है। बातचीत में कहा कि अगर लालू यादव बिहार की नीतीश सरकार से अपना समर्थन वापस ले लें और उन्हें यानी जातनराम मांझी को बिहार में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दें, तभी वो जनता परिवार में शामिल होंगे।

मांझी ने यह भी कहा है कि पीएम मोदी से राजनीति पर कोई बातचीत नहीं हुई है। मांझी ने बताया, “जब भी जाता हूं तो कहते हैं कि वे मेरे विचार से सहमत होते हैं। उन्हें आश्वस्त किया है कि उनके दरवाजे मांझी के लिए हमेशा खुले हैं।”

मांझी के मुताबिक पीएम मोदी ने उनसे कहा, “आज भी उन्होंने कहा कि जो सीएम आते हैं वे परेशानी लेकर आते हैं लेकिन आप ही एक ऐसे आदमी हैं जिसने गरीबों और किसानों की बात की है। जब कभी मेरे यहां आने की बात करेंगे तो आपके लिए दरवाजे खुले हैं।”

मांझी ने कहा, “बिहार में जो आत्महत्या कर रहे हैं मुद्दा यही था। मैंने यहां के किसानों के सीरियस मुद्दे पर मोदी जी को ध्यान दिलाने की बात की है, चुंकि इसमें हमने सीबीआई जांच की बात की थी, आदेश भी हुआ था अब वो थंडे बस्ते में पड़ता नजर आ रहा है। यही ध्यान दिलाने की बात की है कि इस पर काम कीजिए तब बिहार में कुछ कल्याण होगा। बिहार में नीतीश कुमार कान में तेल डालकर बैठे हुए हैं। नीतीश जी सिर्फ कमीशन खोरों की बात कर रहे हैं, ब्यूरोक्रेट्स की बात कर रहे हैं।”

पर्दा फिर किस चीज का है? अनाउंस कर दीजिए कि दोनों साथ हैं? इस सवाल पर मांझी ने कहा,”हम अकेले अनाउंस करने वाले कौन है। हमारी पार्टी है हमारे लोग हैं। बिहार में हमारे साथ सात आठ मंत्री हैं। सब अपना पद प्रतिष्ठा गवांकर हमारे साथ है। अकेले निर्णयलेना सही नहीं है। एक बार चर्चा हुई है कि हम अगले चुनाव में क्या करेंगे। पहले हमने बैठक की थी कि अकेले चुनाव लड़ेंगे। परिस्थितियां आगे बढ़ती जा रही हैं फिर बातची करेंगे।”

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कल मांझी से हाथ मिलाने का संकेत देते हुए कहा था कि बातचीत चल रही है और नये सहयोगी दलों के लिए उनकी पार्टी के दरवाजे खुले हुए हैं।

मांझी ने एक बार साफ किया था कि वह ऐसे किसी गठबंधन में शामिल नहीं होंगे जिसमें नीतीश होंगे। नीतीश और लालू के बीच मतभेद सामने आने के बीच बीजेपी को लगता है कि वह राज्य के दोनों क्षत्रपों से सत्ता अपने कब्जे में ले सकती है।

बिहार में आने वाले सितंबर-अक्टुबर में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।


Check Also

महाराष्ट्र पंचायत चुनाव रुझानों में सत्ताधारी शिवसेना और बीजेपी में कांटे की टक्कर

महाराष्ट्र पंचायत चुनाव के नतीजे आज आ रहे हैं. अभी तक के रुझानों में सत्ताधारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *