Wednesday , 23 September 2020
Home >> Breaking News >> IIT को पीएम की आलोचना बर्दाश्त नहीं, दलित छात्रों के ग्रुप को बैन किया

IIT को पीएम की आलोचना बर्दाश्त नहीं, दलित छात्रों के ग्रुप को बैन किया


नई दिल्ली,(एजेंसी)29 मई। आईआईटी मद्रास ने एक अजीबो गरीब फरमान सुनाते हुए कैंपस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करने वाले आंबेडकर पेरियार स्टूडेंट सर्किल ग्रुप पर बैन लगा दिया है। आईआईटी ने शिक्षा मंत्रालय के आदेश के बाद मोदी सरकार की नीतियों की आलोचना करने वाले इस ग्रुप को बैन किया है।

iit_madras_modi

खबर के मुताबिक इस ग्रुप के खिलाफ मिली एक शिकायत के बाद आईआईटी ने यह फैसला लिया है। इस ग्रुप पर हिंदी के इस्तेमाल और बीफ बैन से जुड़े विवादों पर चर्चा कर एससी-एसटी के छात्रों को भड़काने का आरोप है।

एचआरडी मिनिट्री को भेजी गई शिकायत में इस ग्रुप का एक पैंफलेट भी लगाया गया था जिसमें मोदी सरकार को उद्योपतियों की सरकार बताया था और केंद्र सरकार के कई बिलों की आलोचना की गई थी। इसमें ‘घर वापसी’ कार्यक्रम और गोमांस पर प्रतिबंध जैसे मसलों का भी जिक्र था।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय को एक लिखित शिकायत मिली थी,जिसके एचआरडी मंत्रालय ने छात्रों के एक समूह के खिलाफ पीएम के भाषण की आलोचना की पूछताछ करवाई थी।

एचआरडी मंत्रालय की जांच के बाद आईआईटी मद्रास ने आंबेडकर पेरियार स्टूडेंट सर्किल से जुड़े छात्रों को प्रधानमंत्री मोदी की नीतियों और भाषणों की आलोचना करने से रोक दिया है।

बैन किए गए ग्रुप के सदस्यों का कहना है कि कैसे किसी ‘अज्ञात पत्र’ द्वारा की गई शिकायत के आधार पर छात्रों की आवाज को दबा सकता है। एक सदस्य का कहना है,”हम इस पर आपत्ति दर्ज कराते हैं कि हमें अपनी सफाई का मौका तक दिए बिना ही सर्कल को बैन कर दिया गया। डीन का कहना है कि ग्रुप विवादास्पद गतिविधियों में शामिल है। हमारा पक्ष साक्ष है हमने इस संस्थान द्वारा दी गई किसी भी सुविधा का गलत इस्तेमाल नहीं किया है। ”

एचआरडी को जो पैंफलेट को भेजा गया था, वह ‘आंबेडकर की प्रासंगिकता’ विषय पर दिए गए भाषण का हिस्सा था जिसमें मोदी सरकार की आलोचना की गई थी।


Check Also

झाड़ू का इस्तेमाल और खुले में कूड़े को रखना कोरोना संक्रमण को बढ़ाने के लिए काफी मददगार होता है: AIIMS

कोरोना संक्रमण के फैलाव के तरीकों को लेकर नए-नए तथ्य सामने आ रहे हैं। एम्स …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *