Home >> In The News >> लू भी अब प्राकृतिक आपदा, सरकार देगी आर्थिक मदद : राजनाथ सिंह

लू भी अब प्राकृतिक आपदा, सरकार देगी आर्थिक मदद : राजनाथ सिंह


नई दिल्ली,(एजेंसी)29 मई। केंद्र में मोदी सरकार के एक साल पूरा करने पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार के कामकाज का बखान किया।

29_05_2015-29rajnath-singh

उन्होंने कहा कि हमने एक साल में गवर्नेंस और सुशासन की घर वापसी की है। देश को चलाने के लिए सिर्फ अर्थशास्त्री होना काफी नहीं है, यथार्थ शास्त्री होना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यथार्थ शास्त्री हैं।

भीषण गर्मी से देश में 1800 से ज्यादा लोगों के मरने के बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि लू भी अब प्राकृतिक आपदा में शामिल है। लू से मरने वालों के परिवार को सरकार की तरफ से आपदा राहत सहायता मिल सकता है।

आपको बता दें कि देश के कई हिस्से भीषण गर्मी और लू की चपेट में आने से मरने वालों की संख्या 1800 के पार पहुंच गई है। आंध्र प्रदेश में लू से मरने वालों की कुल संख्या 1334 है, जबकि तेलंगाना में 440 लोग लू की चपेट में आकर मारे जा चुके हैं। इसके अलावा ओडिशा से 43, गुजरात से सात और दिल्ली में दो लोगों के लू से मरने की खबर है।

मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि अगले दो दिन लू चलना जारी रहेगा। इसके अलावा दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और पंजाब में भी लू का प्रकोप जारी है। हिमाचल प्रदेश के निचले इलाकों में भी गर्मी का स्तर बढ़ गया है और उना में तापमान 43.2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है।

दिल्ली में गुरुवार को अधिकतम तापमान 41.1 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम विभाग ने शुक्रवार को आसमान साफ रहने की उम्मीद जताई है। हरियाणा और पंजाब के कई इलाकों में भी तापमान 41 से 45 डिग्री सेल्सियस के बीच बना हुआ है और दोनों राज्य में गर्म हवाओं का प्रकोप जारी है। हरियाणा में गुरुवार को हिसार सबसे गर्म रहा, जहां पर तापमान 43.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

उत्तर प्रदेश के भी कई क्षेत्रों में तापमान में बढ़ोत्तरी देखी गई और लू का प्रभाव बना रहा। राज्य में इलाहाबाद सबसे गर्म रहा जहां तापमान 45.8 डिग्री सेल्सियस रहा।


Check Also

एम्स के वैज्ञानिकों का दावा बैक्टीरिया के साथ लार के जरिए भी शरीर में जा सकता है कोरोना वायरस

कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क और सामाजिक दूरी के साथ मुंह की सफाई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *