Wednesday , 23 September 2020
Home >> U.P. >> कबड्डी की राष्‍ट्रीय खिलाड़ी दहेज प्रताड़ना की शिकार

कबड्डी की राष्‍ट्रीय खिलाड़ी दहेज प्रताड़ना की शिकार


बुलंदशहर,(एजेंसी)05 जून। बुलंदशहर में कबड्डी की राष्ट्रीय खिलाड़ी को एक महीने से इंसाफ की तलाश है. अपने बेरहम पति के जुल्मों का शिकार कबड्डी प्लेअर पूजा को एक महीने पहले बेहोशी की हालत में उसका पति बुलंदशहर में फेंक गया था, लेकिन पुलिस मामले के संदिग्ध होने का राग अलाप रही है और महीनेभर में न तो केस दर्ज किया और न ही आरोपियों पर कार्रवाई की। पूजा के पिता ने एक करोड़ रूपये खर्च करके उसकी शादी दिल्ली के विवेक से की थी।

Bulandshar-kabbadi

कबड्डी की इस राष्ट्रीय खिलाड़ी की खुशियों की तस्वीरें अब गम में बदल चुकी है। पहले पति के जुल्म और अब पुलिस की प्रताड़ना एक महीने से पुलिस थाने की चौखट पर इंसाफ तलाश रही इस नेशनल प्लेअर को न तो इंसाफ मिला और न ही पुलिस ने उसके मामले से हाथ खड़े किये है। उसे हर तीसरे दिन बयान देने के बहाने पुलिस थाने में बुलाती है और मानसिक प्रताड़ना देकर वापस भेज देती है।

दरअसल, बुलंदशहर के किसौली गांव की रहने वाली पूजा के पिता गाजियाबाद में डॉक्टर है। गत 10 दिसंबर 2014 को पूजा की शादी दिल्ली के द्वारिका में रहने वाले विवेक के साथ हुई थी। एक करोड़ रुपये खर्च करके पूजा की शादी करने वाले पिता को बाद में मालूम हुआ कि उनका दामाद बेरोजगार है तो उनके पैरो तले जमीन खिसक गई। शादी के बाद एक दो महीने तो ठीक-ठाक गुजर गए, लेकिन उसके बाद से पूजा से 50 लाख की इम्पोर्टिड कार की मांग को लेकर उस पर ज्यादतियों का दौर शुरू हो गया। पूजा का पति उसे बुरी तरह पीटता और तीन बार उसका गला घोंटकर उसे जान से मारने की कोशिश भी की।

पीड़ित राष्ट्रीय खिलाड़ी पूजा ने बताया कि उसका पति विवेक उसे बेहोश करके 8 मई को बुलंदशहर के नौसेना इलाके में फेंक गया। पुलिस पूजा को लेकर जिला अस्पताल आई और उसे यहां दो दिन तक भर्ती रखा। पूजा के पिता की तहरीर पर पुलिस ने उससे पति और ससुरालियों के खिलाफ केस तो दर्ज किया, लेकिन नौसेना के थानेदार साहब महेन्द्र सिंह महीने भर की तफ्तीश के बाद किसी फैसले तक नहीं पहुंच पाये है।

थानेदार महेन्द्र सिंह ने अपने आला अफसरों को बताया है कि मामला फर्जी है, लेकिन पूजा और उसके परिजनों को हर तीसरे दिन थाने बुलाकर बयान लेने के बहाने उसकी प्रताड़ना की जा रही है। कार्रवाई के नाम पर थानेदार महेन्द्र सिंह ने कई बार द्वारिका के चक्कर तो लगाए है, लेकिन दिल्ली से लौटने के बाद पूजा के बेरहम पति और उसके ससुरालियों की तारीफ में कसीदें पढ़ते दिखाई देते है।


Check Also

यूपी में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर कक्षा 9 से 12 तक के विद्यालय अभी नहीं खोले जाएंगे: CM योगी

उत्तरप्रदेश में लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर कक्षा 9 से 12 तक के विद्यालय …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *