Home >> इंटरनेशनल >> सूरज के पीछे छिपा मंगल, मार्स मिशन को मिलेगा अवकाश

सूरज के पीछे छिपा मंगल, मार्स मिशन को मिलेगा अवकाश


वाशिंगटन,(एजेंसी)09 जून। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का मार्स मिशन सात जून से 21 जून तक मंगल ग्रह के बारे में कोई नई जानकारी पृथ्वी पर नहीं भेज पाएगा, क्योंकि लाल ग्रह सूर्य के पीछे छिप गया है। ऐसे में अंतरिक्ष यान और रोवर को उनका द्विवार्षिक विश्राम मिल गया है।

ISRO_MARS

सौजन्य: इसरो

मौजूदा स्थिति में सूर्य, मंगल और पृथ्वी के बीच आ गया है, जिससे मार्स रोवर और पृथ्वी के बीच संपर्क नहीं हो पाएगा. मंगल और पृथ्वी के बीच सूर्य के आ जाने की स्थिति को ‘मार्स-सोलर कंजक्शन’ या ‘मंगल-सौर संयोजन’ कहते हैं।

इस महीने मंगल ग्रह की स्थिति सूर्य के ठीक पीछे होगी। यह खगोलीय ज्यामितिय परिस्थिति प्रत्येक 26 महीनों में एक बार बनती है, जिससे मंगल या उसके आस पास स्थापित किए गए अंतरिक्ष यान के साथ पृथ्वी का संपर्क बाधित होता है।

नासा ने एक बयान में कहा, “चूंकि सूर्य, पृथ्वी और मंगल के बीच रेडियो तरंगों को बाधित करता है, इसलिए इस अवधि में यान से संपर्क साधना कठिन हो जाता है।”

इस अवधि में अंतरिक्ष यान से संपर्क साधने की कोशिश में या किसी तरह का आदेश अथवा निर्देश भेजने की कोशिश में अवांछित दुर्घटनाएं हो सकती हैं, जिनके नतीजे हानिकारक साबित हो सकते हैं। इसलिए मंगल परियोजना से जुड़े वैज्ञानिक इस दौरान यान को आदेश या निर्देश भेजना अस्थाई रूप से रोक देते हैं।

कैलिफोर्निया के पेसिडिना स्थित नासा के जेट प्रोपल्शन लैबोरेटरी में सिस्टम इंजीनियर नैगिन कॉक्स ने कहा, “हमारा समग्र दृष्टिकोण दो साल पहले के सौर-संयोजन अवधि के अनुभवों पर आधारित है और वह कामयाब रहा था।”

नासा का मावेन अंतरिक्ष यान सौर-संयोजन की अवधि के दौरान सारे आंकड़े और जानकारियां एकत्र करेगा, जिसे बीते साल सितंबर महीने में मंगल की कक्षा में स्थापित किया गया था।

मावेन के परियोजना उप प्रबंधक जेम्स मोरिसी ने कहा, “सारी जानकारियां और एकत्र आंकड़े सौर-संयोजन अवधि के समाप्त होने के बाद एक बार फिर हम तक प्रेसित की जाएंगी।”


Check Also

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप को जान से मारने के लिए रिसिन जहर वाला पैकेट भेजा गया छानबीन में सच आया सामने

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के बीच चौंकाने वाली खबर आई है। व्हाइट हाउस के उच्च …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *