Wednesday , 27 October 2021
Home >> Breaking News >> लोकसभा में आज अंतरिम बजट पेश करेंगे चिदंबरम

लोकसभा में आज अंतरिम बजट पेश करेंगे चिदंबरम


chidambaram_budget
नई दिल्ली,एजेंसी-17 फरवरी। वित्तमंत्री पी चिदंबरम आगामी लोकसभा चुनाव से पहले पेश किए जाने वाले अंतरिम बजट में कुछ रियायतों की घोषणा कर सकते हैं, हालांकि, इस दौरान उन्हें राजकोषीय घाटे को सीमित दायरे में रखने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ सकती है।
वित्तमंत्री अंतरिम बजट के साथ ही जुलाई, 2014 तक के खर्चों की अनुमति के लिए संसद में लेखानुदान भी पेशकश करेंगे। पारंपरिक तौर पर अंतरिम बजट में प्रत्यक्ष करों में कोई बदलाव नहीं होता है और न ही कोई बड़ी नीतिगत घोषणा की जाती है, फिर भी इसमें आम आदमी और मदद की दरकार रखने वाले कुछ क्षेत्रों के लिए रियायतों की घोषणा की जा सकती है।

वित्तमंत्री ने इससे पहले संकेत दिया है कि वह अंतरिम बजट में अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए उत्पाद और सेवाकर की कुछ दरों में बदलाव कर सकते हैं, लेकिन वह राजनीतिक आम सहमति के अभाव में आर्थिक सुधारों से जुड़े प्रमुख विधेयकों को आगे नहीं बढ़ाएंगे।

उन्होंने कहा, वर्ष 2004 में तत्कालीन वित्तमंत्री जसवंत सिंह ने अंतरिम बजट पेश करते हुए 12 पृष्ठ का भाषण पढ़ा था। वर्ष 2009 में उस समय वित्तमंत्री रहे प्रणब मुखर्जी ने 18 पृष्ठ का भाषण पढ़ा था, इसलिए मेरे पास चुनने के लिए 12 से 18 के बीच दो संख्या हैं। हम कानून में संशोधन को छोड़कर कोई भी प्रस्ताव रख सकते हैं।

यह देखना रोचक होगा कि चिदंबरम सुपर-रिच टैक्स को 2014-15 में भी जारी रखते हैं या नहीं। बहरहाल, संकेत तो यही हैं कि वह ऐसा नहीं करेंगे, क्योंकि इसके लिए कानून में संशोधन की आवश्यकता होगी। वित्तमंत्री ने पिछले बजट में सालाना एक करोड़ रुपये अथवा इससे अधिक कमाई करने वाले धनी व्यक्तियों पर 10 प्रतिशत आयकर अधिभार लगाया था। देश में ऐसे 42,800 लोग हैं।

वित्तमंत्री अंतरिम बजट में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार की उपब्धियों को गिना सकते हैं। इस दौरान वह यह भी बता सकते हैं कि सरकार चालू खाते के घाटे (कैड) और राजकोष घाटे को नियंत्रित रखने में किस तरह सफल हो सकी। वित्तवर्ष 2014-15 का पूर्ण बजट नई सरकार के सत्ता में संभालने के बाद जून अंत तक या फिर जुलाई में पेश किया जाएगा। बजट भाषण में चिदंबरम यह भी बता सकते हैं कि आर्थिक वृद्धि की दर 4.5 प्रतिशत तक नीचे कैसे आ गई। वह उन कदमों को भी गिना सकते हैं, जो अर्थव्यवस्था को वापस उच्च वृद्धि के रास्ते पर लाने के लिए उठाए गए।


Check Also

12वी के बाद करना चाहते है होटल मैनेजमेंट कोर्स तो पढ़े पूरी खबर

समय के साथ हॉटल्स की संख्या बढ़ने के साथ ही हॉसपिटैलिटी इंडस्ट्री में भी बहुत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *