Saturday , 19 September 2020
Home >> Exclusive News >> सूबे के उद्योगों को पंख लगा देगा लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे

सूबे के उद्योगों को पंख लगा देगा लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे


लखनऊ,(एजेंसी)17 जून। बस सवा साल और……..और इसके बाद सफ़र करिए देश की सबसे खूबसूरत और मॉडर्न सड़क यानि लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर। उम्मीद है कि देश की राजधानी दिल्ली और सूबे की राजधानी लखनऊ की दूरी तय करने में लगने वाला वक़्त करीब आधा करने वाला यह एक्सप्रेसवे अगले साल सितम्बर-अक्टूबर तक आम लोगों के इस्तेमाल के लिए चालू हो जाएगा।

725601

अखिलेश यादव का यह ड्रीम प्रोजेक्ट है जिसे समय से पूरा करने के लिए दिन-रात काम चालू करने की तैयारी है। जानकारों का कहना है कि अगर अगले वर्ष अक्टूबर तक इस एक्सप्रेसवे की तकनीकी फिनिशिंग पूरी नहीं हो पायी तो इस लायक जरूर बन जाएगा कि वाहनों का आना-जाना शुरू हो जाए। मुख्यमंत्री ने आज अपनी अति महत्वाकांक्षी योजना लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे पर सारोसा-भरोसा गाँव मोहान रोड पर बन रहे 60 मीटर लम्बे ट्रम्पेट फ्लाई ओवर के निर्माण का शुभारम्भ किया. इस ट्रम्पेट फ्लाई ओवर के माध्यम से लखनऊ से आगरा जाने वाले वाहन एक्सप्रेस वे पर चढ़ेंगे और आगरा से आने वाले वाहन उतरेंगे. आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे का दूसरा ट्रम्पेट फ्लाई ओवर आगरा में बनेगा।

10 हज़ार 4 सौ करोड़ रूपये की लागत से बनने वाले इस एक्सप्रेस वे से लखनऊ और आगरा की दूरी 350 किलोमीटर से घटकर 270 किलोमीटर हो जायेगी। इस एक्सप्रेस वे पर जगह-जगह पर अंडर वे व कैटल वे बनाये जायेंगे ताकि इस रास्ते पर चलने वालों को दिक्क़त न हो। इसके आलावा इसे रास्ते में पड़ने वाले शहरों व गाँव से दूर रखा जायेगा. हालाँकि रास्ते के शहर व गाँव बाईपास के ज़रिये इससे जुड़ते जायेंगे। एक्सप्रेस वे से आम, आलू और खरबूजा और जल्दी ख़राब होने वाली सब्जियां जल्दी एक शहर से दूसरे शहर पहुँच सकेंगी।

इस एक्सप्रेस वे का सबसे बड़ा फ़ायदा रास्ते में पड़ने वाले शहरों के उद्योगों को मिलेगा। फिरोजाबाद में ग्लास सिटी की स्थापना की जायेगी। इसके अलावा फिरोजाबाद का चूड़ी उद्योग, आगरा का चमड़ा उद्योग, कन्नौज का इत्र उद्योग को काफी फ़ायदा पहुंचेगा।

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे को शुरू करने से पहले तमाम बातों पर मंथन कर लिया गया है। बाढ़ से बचने के लिए इस एक्सप्रेस वे को ज़मीन की साथ से काफी ऊंचा बनाया जा रहा है। इसे बनाने में उपजाऊ ज़मीन का उपयोग कम से कम होगा, ज्यादा से ज्यादा नहर की पटरियों का इस्तेमाल किया जायेगा।

एक्सप्रेस वे के दोनों ओर झील, तालाब और ईको फ्रेंडली पार्क बनाये जायेंगे। एक्सप्रेस वे के दोनों ओर 10.25 मीटर की पट्टी पर यूँ भी हरित पट्टी बनाई जा रही है। लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे मलिहाबाद, कन्नौज, मैनपुरी, इटावा, शिकोहाबाद और फिरोजाबाद से गुज़रता हुआ आगरा जायेगा। इन शहरों की ग्रोथ भी बढ़ेगी।


Check Also

देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं: CM योगी

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दी और …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *