Wednesday , 23 September 2020
Home >> In The News >> बिहार स्कूल ऑफ योग : दुनिया का पहला योग विश्वविद्यालय

बिहार स्कूल ऑफ योग : दुनिया का पहला योग विश्वविद्यालय


बिहार,(एजेंसी)18 जून। दुनिया 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की तैयारी में जुटी है। योग को आगे बढ़ाने में बिहार के मुंगेर स्थित ‘बिहार स्कूल ऑफ योग’ का महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है।

1964 में हुई थी स्थापना
सदियों से भारत की पहचान रहे योग की समृद्ध परंपरा और विरासत के कुछ अहम केंद्र रहे हैं, जिन्होंने योग को आगे बढ़ाने में अहम योगदान दिया है। इन्हीं में एक है बिहार स्कूल ऑफ योग।

बिहार स्कूल ऑफ योग को दुनिया का पहला योग विश्वविद्यालय माना जाता है। बिहार स्कूल ऑफ योग की स्थापना स्वामी सत्यानंद ने सन् 1964 में मुंगेर के गंगा नदी के तट पर की थी। आज यहां पूरी दुनिया के लोग बिना किसी भेदभाव के योग सीखते हैं।

yoga_650_425+story_650_061815033600

Symbolic Image

योग भविष्य की संस्कृति
स्कूल के स्वामी ज्ञान भिक्षु सरस्वती ने बताया कि स्वामी सत्यानंद के गुरु स्वामी शिवानंद वर्ष 1937 में ऋषिकेश से मुंगेर आए थे। उन्होंने जगह-जगह संकीर्तन के जरिए योग का संदेश दिया। इसके बाद उनके शिष्य सत्यानंद सरस्वती को मुंगेर में ही यह दिव्य संदेश प्राप्त हुआ कि योग भविष्य की संस्कृति है। इसके तहत वर्ष 1964 में स्वामी शिवानंद के महासमाधि ले लेने के बाद स्वामी सत्यानंद ने मुंगेर में गंगा दर्शन आश्रम की नींव रखी और यहीं वह योग को आगे बढ़ाने में जुट गए।

योग पर 300 से ज्यादा पुस्तकें
स्वामी सत्यानंद सरस्वती ने योग सिखाने के लिए 300 से ज्यादा पुस्तकें लिखीं, जिसमें योग के सिद्धांत कम और प्रयोग ज्यादा हैं। वर्ष 2010 में सत्यानंद स्वामी के निधन के बाद इस स्कूल की जिम्मेदारी स्वामी निरंजनानंद के कंधों पर आ गई।

देश-विदेश में योग का प्रसार
बिहार स्कूल ऑफ योग के शिक्षक दीपक ब्यास कहते हैं, “यह स्कूल केवल बिहार तक ही सीमित नहीं है, यह देश के विभिन्न कॉलेजों, जेलों, अस्पतालों और अन्य कई संस्थाओं में लोगों को योग का प्रशिक्षण देता है। आज इस विशिष्ट योग शिक्षा केंद्र से प्रशिक्षित 14,000 शिष्य और 1,200 से अधिक योग शिक्षक देश-विदेश में योग ज्ञान का प्रचार-प्रसार कर रहे हैं।”

आश्रम के नियम
आश्रम में प्रतिदिन सुबह चार बजे उठकर व्यक्तिगत साधना करनी पड़ती है। इसके बाद निर्धारित नियमित कार्यक्रम के अनुसार कक्षाएं शुरू होती हैं। शाम 6:30 बजे कीर्तन के बाद 7:30 बजे अपने कमरे में व्यक्तिगत साधना का समय निर्धारित है। रात आठ बजे आवासीय परिसर बंद हो जाता है। यहां खास-खास दिन महामृत्युंजय मंत्र, शिव महिमा स्त्रोत, सौंदर्य लहरी, सुंदरकांड व हनुमान चालीसा का पाठ करने का भी नियम है। बसंत पंचमी (सरस्वती पूजा) के दिन हर साल स्कूल का स्थापना दिवस मनाया जाता है। इसके अलावा गुरु पूर्णिमा, नवरात्र, शिव जन्मोत्सव व स्वामी सत्यानंद संन्यास दिवस पर भी विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

मुंगेर के इस स्कूल की योग में भूमिका को देखते हुए पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम ने वर्ष 2014 में मुंगेर को योगनगरी बताया था। योग के प्रचार-प्रसार के लिए इस स्कूल की प्रशंसा न्यूजीलैंड के तत्कालीन प्रधानमंत्री क्लिथ हालोस्की, पूर्व राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद तथा पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी व मोरारजी देसाई सहित योग गुरु बाबा रामदेव भी कर चुके हैं।

स्कूल के एक अन्य शिक्षक कहते हैं कि कि प्रयोग और अनुसंधान इस स्कूल की विशेषता है। स्वामी ज्ञान भिक्षु सरस्वती कहते हैं कि संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा विश्व योग दिवस की घोषणा योग के प्रचार-प्रसार के लिए एक अच्छी पहल है। इससे योग के ज्ञान को फैलाने में और मदद मिलेगी।


Check Also

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 21वीं सदी के भारत की शैक्षिक प्रणाली को पुनर्जीवित करेगा: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) पर देश को संबोधित किया। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *