Home >> इंटरनेशनल >> अमेरिका में नस्लवाद की जड़ें गहरी, खत्म होने में लगेगा समयः ओबामा

अमेरिका में नस्लवाद की जड़ें गहरी, खत्म होने में लगेगा समयः ओबामा


वाशिंगटन,(एजेंसी)23 जून। अमेरिका में नस्लवाद और बंदूक संस्कृति को लेकर राष्ट्रपति बराक ओबामा ने गहरी चिंता जताई है। उन्होंने कहा है कि अमेरिका में नस्लवाद की जड़ें गहरी हैं और समाज इसका इलाज नहीं खोज पाया है। कॉमेडियन मार्क मैरन को दिए साक्षात्कार में राष्ट्रपति ने बीते बुधवार को चा‌र्ल्सटन में अश्र्वेतों के ऐतिहासिक चर्च में गोलीबारी की घटना को लेकर यह बात कही।

22_06_2015-obama22

ओबामा ने कहा कि अश्र्वेतों के प्रति सार्वजनिक तौर पर विनम्र होना या प्रत्यक्ष भेदभाव नहीं करना नस्लीय भेदभाव को मापने का पैमाना नहीं है। दो सौ से तीन सौ साल पहले जो हुआ उसे रातोंरात नहीं बदला जा सकता। यह अभी भी हमारे डीएनए में है। इस दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति ने नेशनल राइफल एसोसिएशन को लेकर भी नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में एसोसिएशन समर्थकों का प्रभुत्व है। कड़ा शस्त्र कानून बनाने की राह में यह लॉबी बाधक है। उन्होंने कहा कि अमेरिकी नागरिकों को बंदूक का लाइसेंस आसानी से मुहैया कराने की अपेक्षा उनमें सहिष्णुता की भावना विकसित करना ज्यादा महत्वपूर्ण है।

गौरतलब है कि 18 जून को 21 साल के श्र्वेत युवक डायलन रूफ ने चा‌र्ल्सटन के चर्च में गोलीबारी कर नौ लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। पूछताछ में उसने कबूला था कि वह इस हमले की कई महीनों से तैयारी कर रहा था और अमेरिका में नस्लीय हिंसा भड़काना चाहता था। जिस बंदूक से उसने घटना को अंजाम दिया था वह उसे पिता ने जन्मदिन पर उपहार में दिया था।

पीडि़तों के प्रति दिखाई एकजुटता
गोलीबारी की घटना में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देने और एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए रविवार को हजारों लोग चाल्सर्टन के चार किमी लंबे आर्थर रेवेनेल पुल पर इकट्ठा हुए। एक-दूसरे का हाथ थामे पुल पर इकट्ठा लोगों ने नौ मिनट का मौन रखा। कूपर नदी पर बना यह पुल अमेरिका के सबसे लंबे पुल में से है।


Check Also

ट्रंप प्रशासन ने कोविड-19 परीक्षण के दिशानिर्देशों को बदल दिया: अमेरिका

पूरी दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से जूझ रही है। वहीं अमेरिका इससे सबसे ज्यादा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *