Home >> In The News >> इन सात मुद्दों पर संसद में घिरेगी सरकार

इन सात मुद्दों पर संसद में घिरेगी सरकार


नई दिल्ली,(एजेंसी)21 जुलाई। आज से संसद का मानसून सत्र शुरु हो रहा है। 13 अगस्त तक चलने वाला इस मानसून सत्र में कई मुद्दों पर विपक्ष सरकार को घेरने की कोशिश करेगा। इन मुद्दों पर हंगामे के आसार भी हैं। सरकार की मुश्किलें बढ़ाने के लिए विपक्षी पार्टियां भूमि अधिग्रहण विधेयक पर भी कोई समझौता न करने पर अड़ी हुई हैं।

Parliament-Rew

यहां आपको बता रहे उन मुद्दे के बारे में जिनपर ससंद में घिरेगी सरकार-

1. व्यापम घोटाला- व्यापम घोटाले में मध्य प्रदेश के कई बड़े नेताओं के नाम हैं। कांग्रेस आरोप लगाती है कि जब ये पूरा घोटाला हुआ तब संबंधित मंत्रालय का जिम्मा शिवराज सिंह के पास ही था लिहाजा उन्हें इस्तीफा देना चाहिए। खुद शिवराज से व्यक्तिगत तौर पर जुड़े कई लोग इस मामले में फंसे हैं। घोटाले से जुड़े 47 लोगों की संदिग्ध मौत हो चुकी है। विपक्ष के दबाव के बाद पिछले दिनों इस केस की जांच सीबीआई को सौंपी गई थी। सीबीआई आधा दर्जन से ज्यादा एफआईआर दर्ज कर चुकी है। घोटाले में 2530 आरोपी हैं जिनमें से 1980 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। पीएम से मिलकर शिवराज सफाई दे चुके हैं और संसद में शिवराज का बचाव पार्टी करेगी।

2. ललितगेट- राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पर आईपीएल घोटाले के आरोपी ललित मोदी को मदद करने का आरोप है। विपक्ष लगातार इनके इस्तीफे मांग कर रहा है। वसुंधरा राजे पर ललित मोदी के ब्रिटेन में रहने के लिए गवाही देने का आरोप है तो वहीं ललित मोदी को ट्रैवल डॉक्यूमेंट दिलाने में मदद का आरोप है। एक दिन पहले ही पार्टी अध्यक्ष से सुषमा की मुलाकात हुई है और अब खबर है कि सुषमा संसद में खुद बचाव करेंगी।

sushma vasundhara

3. डिग्री विवाद- मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति की शिक्षा पर उठे डिग्री विवाद पर भी विपक्ष सरकार को कठघरे में खड़ा करेगा।

4. भूमि अधिग्रहण बिल- जमीन बिल के मौजूदा प्रावधानों का कांग्रेस पूरजोर विरोध कर रही है। समाजवादी पार्टी ने भी साफ कर दिया है कि वो इस मसले पर कांग्रेस के साथ है। जमीन बिल पर बनी संयुक्त संसदीय समिति ने अपनी रिपोर्ट पेश करने के लिए और वक्त मांगा है जिसकी वजह से जमीन बिल मॉनसून सत्र में पेश नहीं किया जाएगा। इस समिति को अपना रिपोर्ट 21 जुलाई को पेश करना था लेकिन अब यह समिति अगस्त के पहले सप्ताह में अपनी रिपोर्ट देगी। केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री ने कहा है कि अगर बिल में ज्यादा बदलाव हुआ तो फिर सरकार नया जमीन बिल ला सकती है।

5. जातिगत जनगणना- केंद्र सरकार द्वारा जाति आधारित जनगणना को मंजूरी तो दे दी गई है। इस पर विपक्ष सरकार को घेरने के लिए तैयार है। विपक्ष का कहना है कि सामाजिक, आर्थिक व जातिगत जनगणना किए गए है तो फिर जातिगत आंकड़ों को क्यों रोका जा रहा है।

6. धान घोटाला- छत्तीसगढ़ के इस घोटाले में चपरासी से लेकर मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनके परिवार तक का नाम सामने आ रहा है। 1 रुपए किलो चावल में बड़े पैमाने पर सालों से हेराफेरी हो रही थी।

7. एलओसी पर फायरिंग- पाकिस्तान लगातार सीमा पर सीजफायर कर रहा है लेकिन सरकार उस पर कुछ पाकिस्तान को कुछ कड़ा जवाब नहीं दे पा रही है।

आपको बता दें कि कांग्रेस ने सुषमा, वसुंधरा और शिवराज का इस्तीफा मांगा है। कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा है कि पीएम भ्रष्टाचारियों के चौकीदार बने हुए हैं। वहीं बीजेपी ने इस मांग को सिरे से नकार दिया है।

सूत्रों की मानें तो लोकसभा की कार्यवाही स्थगित होने के बाद मानसून सत्र की रणनीति पर चर्चा के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी आज पार्टी सांसदों के साथ बैठक करेंगी।


Check Also

छत्‍तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल ने कहा-राजीव गांधी किसान न्याय योजना से किसानों के जीवन में आया नया सवेरा…

छत्‍तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न स्वर्गीय राजीव गांधी जी की जयंती …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *