Home >> In The News >> आखिर क्यों कम हुआ सोने का दाम?

आखिर क्यों कम हुआ सोने का दाम?


नई दिल्ली,(एजेंसी)21 जुलाई। सोने की सेहत अचानक बिगड़ गई है। दो साल पहले 33 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम तक की ऊंचाई छूने के बाद अचानक सोने का भाव 25 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम से नीचे आ गया यानी चार साल पुरानी कीमत पर। आप का कितना नुकसान हुआ ये भी बताएंगे लेकिन आपका ये जानना जरूरी है कि सोने को इतना बीमार होने में सिर्फ 2 मिनट लगे। सोने को बुखार तो मार्च महीने से ही शुरू हो गया था लेकिन उन दो मिनटों ने सोने को आईसीयू में पहुंचा दिया है।

buying-gold-jewellery

प्रतीकात्मक फोटो

बाजीगर एक एंटीहीरो की कहानी है जिसमें विकी मल्होत्रा के किरदार में शाहरुख खान सीमा का किरदार निभा रही शिल्पा शेट्टी से गुपचुप प्यार करता है शादी करता है और फिर उसे छत से धक्का दे देता है। दुनिया के लिए ये खुदकुशी का केस बन जाता है।

फिल्म के इस टुकड़े का जिक्र इसलिए क्योंकि कुछ ऐसा ही हुआ है चीन के शंघाई गोल्ड एक्सचेंज में जहां 2 मिनट में सोने की कीमतों को ऐसा ही धक्का दिया गया और सिर्फ दो मिनट में प सोना जैसे आईसीयू में पहुंच गया। अब जरा सोने की मेडिकल रिपोर्ट भी देख लीजिए। सोने के नीचे गिरने का असर ये हुआ है कि सोने के दाम अचानक 4 फीसदी नीचे गिर गए। भारतीय बाजारों पर भी असर हुआ और सोने की कीमत 24,700 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गईं। आज का भाव भी करीब 25 हजार के आसपास ही बना हुआ है।

सोने की कीमतों का उछाल भी आपको याद होगा और आपने शायद ये भी सोचा हो कि निवेश के लिए सोने से सोणा कुछ भी नहीं लेकिन अब सोने को लग गया है पिछले पांच साल का सबसे बड़ा झटका। साल 2013 के अगस्त महीने में 33 हजार रुपये प्रति दस ग्राम की ऊंचाई को पार कर चुका था वही सोना अब 25 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम से नीचे जा पहुंचा है यानी 10 ग्राम पर ही लग गया है 8 हजार रुपये का बड़ा झटका।

GOLD

सोने को इस हालत में पहुंचाया किसने? दरअसल शंघाई गोल्ड एक्सचेंज में औसतन एक पूरे कारोबारी दिन में सिर्फ 25 टन सोने का ही कारोबार होता था। लेकिन सोमवार की सुबह 9.30 मिनट पर अचानक पांच टन सोना बिकने के लिए आ गया। फ्यूचर बाजार में कागजों पर होने वाली खरीद फरोख्त में इतनी बड़ी बिकवाली की वजह से अचानक सोने का दाम गिर गया लेकिन अब तक ये नहीं पता है कि वो कौन था जिसने अचानक इतना सोना बाजार में धकेल दिया।

सोने की सेहत बिगाड़ने में सिर्फ चीन का शंघाई एक्सचेंज ही नहीं बल्कि चीन के सरकारी आंकड़े भी हैं। दरअसल चीन ने साल 2009 के बाद इस साल जून में सोने की खरीद के आंकड़े जारी किए हैं। इन आंकड़ों के मुताबिक चीन ने पिछले 6 साल में 604 टन सोने की खरीद की है यानी औसतन एक साल में चीन ने 100 टन सोना खरीदा। जब कि उम्मीद थी कि चीन ने कम से कम 3000 टन सोना खरीदा होगा। बाजार नाउम्मीद हुआ ऐसे में सोने के भाव कमजोर हो गए हैं।

अमेरिका का रुख

फाइल

1. अमेरिका ने बॉन्ड्स पर ज्यादा ब्याज देने का इशारा कर दिया है। ऐसे में लोग सोना बेचकर बांड खरीद सकते हैं।

2. डॉलर की कीमतें पिछले साल भर में 20 पैसे बढ़ी हैं यानी डॉलर मजबूत हो रहा है। डॉलर मजबूत होता है तो सोने की कीमतें घटती हैं।

ऐसे में सोने का आईसीयू में पहुंचना तो तय था लेकिन अब लाख टके का सवाल ये है कि सोने की सेहत सुधरेगी या और गिरेगी? आपको बता दें कि आसार अच्छे नहीं हैं।


Check Also

महंगाई की मार के साथ हुआ सितंबर माह का आगाज़, सरकारी तेल कंपनियों ने घरेलू LPG सिलेंडर की कीमतों में एक बार फिर किया इजाफा

सितंबर माह का आगाज़ महंगाई की मार के साथ हुआ है. सरकारी तेल कंपनियों ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *