Home >> Breaking News >> सुषमा-वसुंधरा को लेकर संसद ठप, नियम के झगड़े में शुरू नहीं हो पाई बहस

सुषमा-वसुंधरा को लेकर संसद ठप, नियम के झगड़े में शुरू नहीं हो पाई बहस


नई दिल्ली,(एजेंसी)21 जुलाई। ललित मोदी मदद विवाद में घिरी सुषमा स्वराज को लेकर कांग्रेस ने सड़क से लेकर संसद तक मोर्चा खोल रखा है। राज्यसभा में कांग्रेस ने पहले चर्चा की मांग की और जब सरकार तैयार हुई तो कांग्रेस ने वोटिंग वाले नियम के तहत चर्चा की मांग करनी शुरू कर दी। इस मुद्दे पर भारी हंगामा हुआ जिसके बाद सदन की कार्यवाही तीन बार स्थगित करनी पड़ी।

anad sharma n arun jetily

सुषमा और वसुंधरा को लेकर सदन में हंगामे पर पीएम मोदी ने मौन साधा हुआ है। पीएम से कई सवाल पूछे गए लेकिन पीएम सिर्फ उतना ही बोले जितना सोचकर आए थे।

अरूण जेटली ने कहा, ”ललित मुद्दे पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज बयान देने को तैयार हैं। सुषमा स्वराज सदन में बहस से पहले या बहस के बाद में बयान देने को तैयार है लेकिन विपक्ष को यह स्वीकार्य नहीं है।”

हंगामे के कारण आज पहले दिन प्रश्नकाल और शून्यकाल नहीं हो सका. राज्यसभा में आज सुबह कांग्रेस सदस्यों ने ललित मोदी से जुड़ा मुद्दा उठाया। कांग्रेस सदस्य आनंद शर्मा ने कहा कि उन्होंने नियम 267 के तहत कार्यस्थगन का नोटिस दिया है। ललितगेट को लेकर कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने जमकर मोदी सरकार पर निशाना साधा।

anand sharma (1)

उन्होंने कहा कि पिछले दिसंबर में वित्त मंत्री अरूण जेटली ने और मार्च में वित्त राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा था ललित मोदी के खिलाफ 14 मामले हैं और उनके खिलाफ ब्ल्यू कार्नर नोटिस जारी किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय ने प्रयास किया कि ललित मोदी आएं और जांच हो। लेकिन वह देश छोड़कर चले गए और जांच में शामिल नहीं हुए।

शर्मा ने कहा कि भारत ने इंग्लैंड से ललित मोदी को रोकने के लिए अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि पिछले साल नयी सरकार बनने के ढाई महीने बाद अगस्त में विदेश मंत्री ने ब्रिटेन की सरकार से कहा कि ललित मोदी को मानवता के आधार पर यात्रा दस्तावेज दे दिए जाएं।

कांग्रेस सदस्य ने दावा किया कि मानवता के आधार पर यात्रा दस्तावेज हासिल करने वाले ललित मोदी पूरी दुनिया में घूम रहे हैं और मौज मस्ती कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि दिलचस्प बात यह है कि जब इंग्लैंड में जांच शुरू हुयी तो भारत को जानकारी मिली। भाजपा सदस्यों की टोकाटोकी के बीच शर्मा ने इस मामले में राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का भी जिक्र किया।

उन्होंने इस पूरे मामले को गंभीर मुद्दा बताते हुए कहा कि सरकार ने मर्यादा तोड़ी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को इस मुद्दे पर जवाब देना चाहिए।

कांग्रेस सदस्यों के हंगामे के बीच जेटली ने नियम 267 के तहत दिए गए नोटिस का जिक्र किया और कहा कि सरकार इस पर तुरंत चर्चा के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि सदस्य इस पर तुरंत चर्चा शुरू करें।

कांग्रेस के सदस्य आसन के समीप आ गए और विदेश मंत्री को बख्रास्त किए जाने की मांग करते हुए नारेबाजी करने लगे। इसके पहले कांग्रेस के कुछ सदस्य पोस्टर लहराते हुए दिखे। आसन ने उन्हें ऐसा करने से मना किया।

कांग्रेस के अश्विनी कुमार ने भी कहा कि जब तक सुषमा का इस्तीफा नहीं तब तक संसद नहीं चलेगी।

ashwani kumar

अश्विनी कुमार ने कहा, ”दोनों मंत्रियों ने इकबाले-जुर्म कुबूल किया है। जब तक वे इन मंत्रियो के इस्तीफे नहीं लेंगे तब तक हम चर्चा नहीं करेंगे। सरकार इस्तीफा लेने के बाद मामला स्पष्ट करें।”


Check Also

पश्चिम बंगाल के कोलकाता में एक साथ 10 ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय का छापा, TMC नेताओं से लिंक का शक

पूरे देश में रिकॉर्ड टीकाकरण के बीच फर्जी वैक्सीन का मामला भी प्रकाश में आया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *