Home >> In The News >> FTII: प्रदर्शनकारी छात्रों ने तोड़ी कलाकृति, संस्थान ने मांगी पुलिस सुरक्षा

FTII: प्रदर्शनकारी छात्रों ने तोड़ी कलाकृति, संस्थान ने मांगी पुलिस सुरक्षा


पुणे,(एजेंसी)21 जुलाई। विरोध प्रदर्शन के प्रतीक के रूप में अंदोलनकारी छात्रों द्वारा लगाई गई एक कलाकृति को मुख्य द्वार के बाहर तोड़े फोड़े जाने के बाद FTII प्रशासन ने परिसर के लिए पुलिस सुरक्षा की मांग की है।

फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीटयूट ऑफ इंडिया के नव नियुक्त निदेशक प्रशांत पथराबे ने कहा कि छात्रों द्वारा प्रवेश द्वार के सामने लगाई गई सवालिया निशान की एक बड़ी सी प्रतीकात्मक कलाकृति रविवार रात को क्षतिग्रस्त पाई गई।

ftii-21-07-2015-1437467962_storyimage

FTII के छात्र टीवी अभिनेता गजेंद्र चौहान को अध्यक्ष पद से हटाने की मांग को लेकर हड़ताल पर हैं। पथराबे ने आज बताया, मैंने इस घटना के बारे में पुलिस अधिकारियों से बात की और वे जरूरत पड़ने पर सुरक्षा उपलब्ध करवाने की बात पर सहमत हो गए।

इस घटना के संदर्भ में कोई पुलिस शिकायत दर्ज नहीं हुई है। पथराबे पत्र सूचना कार्यालय के पुणे विभाग के मौजूदा निदेशक हैं और उन्होंने पिछले सप्ताह ही FTII के निदेशक के रूप में अतिरिक्त प्रभार संभाला। उन्होंने यह प्रभार अपने पूर्ववर्ती डी जे नारायण के कार्यकाल की समाप्ति पर संभाला।

संस्थान में छात्र 12 जून से हड़ताल पर हैं और उसके बाद से यहां की अकादमिक गतिविधियों में गतिरोध पैदा हो गया है।

जब निदेशक से इस प्रमुख संस्थान में पैदा हो चुके गतिरोध को समाप्त करने के बारे में उनके द्वारा की जाने वाली पहल के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, मैंने छात्रों को उनकी प्रमुख मांग (FTII सोसाइटी के पुनर्गठन और अध्यक्ष को हटाए जाने की मांग) के मामले में थोड़ी नरमी बरतने की सलाह दी है ताकि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के साथ संभावित वार्ता को सुगम बनाया जा सके। हड़ताल वापस लिए जाने से इस प्रक्रिया में मदद मिलेगी।

इसी बीच दक्षिणपंथी समूह पतित-पावन संगठन ने कल FTII के मुख्य द्वार के बाहर कल प्रदर्शन करते हुए चौहान के समर्थन में नारे लगाए और आंदोलनकारी छात्रों को नक्सली कहकर पुकारा।

हालांकि बॉलीवुड की कई हस्तियों ने चौहान की नियुक्ति को खारिज किए जाने के लिए छात्रों द्वारा सरकार से की जा रही मांग का समर्थन किया है।

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता निर्देशक अपर्णा सेन और अन्य बंगाली फिल्मकारों ने कल छात्रों का समर्थन करते हुए कहा कि चौहान की नियुक्ति FTII के अध्यक्ष के रूप में किए जाने को संस्थान के भगवाकरण के प्रयासों के रूप में देखा जा सकता है।

सेन ने कहा कि अध्यक्ष कोई ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जो कि छात्रों को प्रेरित कर सके और जिसकी ओर वे सम्मान की नजर से देख सकें।

संस्थान ने हड़ताल कर रहे छात्रों को एक अल्टीमेटम देकर कहा है कि या तो वे अकादमिक कार्यों में लौट आएं या फिर संस्थान से निष्कासन के खतरे का सामना करें।


Check Also

जाने क्यों जन्माष्टमी पर लगाया जाता है श्री कृष्णा को 56 भोग

जन्माष्टमी आने में कुछ ही समय बचा है. इस साल जन्माष्टमी का पर्व  31 अगस्त …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *