Home >> Exclusive News >> ठुल्ला आंदोलन : गाजियाबाद में पुलिस कर्मी बोलेंगे एक-दूसरे को ठुल्ला

ठुल्ला आंदोलन : गाजियाबाद में पुलिस कर्मी बोलेंगे एक-दूसरे को ठुल्ला


लखनऊ,(एजेंसी)21 जुलाई। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा पुलिस के लिए ठुल्ला शब्द संबोधित करने के बाद गाजियाबाद एसएसपी धर्मेंद्र सिंह ने पुलिसकर्मियों से आग्रह किया है कि वह इस शब्द से विचलित न होकर कर्तव्यों के प्रति संवेदनशील रहें। उन्होंने इस संबंध में पुलिसकर्मियों को आरटी (रेडियो टेलीग्राम) संदेश भी जारी किया है। कहा है कि ठुल्ला शब्द से परहेज न करें। बोलचाल में एक दूसरे को ठुल्ला कहकर संबोधित करें। यहीं हमारा प्रतिरोध है।

download (1)

निंदा को अपनी शक्ति समझें
एसएसपी ने जिले के सभी एसपी, सीओ व थाना प्रभारियों को लेटर भेजा है। पत्र में कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री ने एक टीवी कार्यक्रम के दौरान दिल्ली पुलिस को ठुल्ला कहकर संबोधित किया था। ठुल्ला एक अपमानजनक शब्द है। गाजियाबाद दिल्ली से सटा होने के कारण यहां के पुलिसबल व अधिकारियों में इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। जिले का एसएसपी होने के रूप में मेरा सभी से आग्रह है कि मुख्यमंत्री द्वारा प्रयोग किए गए शब्द व निंदा से अविचलित रहते हुए कर्तव्यों के प्रति संवेदनशील रहें। पुलिस समाज के बीच रहकर सबसे प्रतिकूल परिस्थितियों में कार्य करती है। अन्य संगठनों की तरह पुलिस को अपनी असहमति व्यक्त करने के लिए धरना, ज्ञापन, प्रदर्शन, सामूहिक अवज्ञा नहीं कर सकती। वर्दीधारी संगठन होने के कारण हमारा मौन एवं अनुशासन सामाजिक व्यवस्था बनाए रखने के लिए आवश्यक है। कहा कि इस निंदा को अपनी शक्ति समझें।

मुसीबत का सबब बनेगा संदेश
ठुल्ला प्रकरण में गाजियाबाद एसएसपी धर्मेन्द्र सिंह ने मातहतों को संदेश मुसीबत का सबब बन सकता है। हालांकि इस संदर्भ में प्रमुख सचिव गृह देबाशीष पंडा का कहना है कि उन्हें ऐसे किसी पत्र के बारे में जानकारी नहीं है। केजरीवाल द्वारा दिल्ली पुलिस को ठुल्ला कहने के बाद एएसपी धर्मेन्द्र सिंह ने थानाध्यक्षों, सीओ और एएसपी को आरटी (रेडियो टेलीग्राम) संदेश के जरिये ठुल्ला शब्द को अपने प्रतिरोध और संगठन शक्ति का आधार बताया है। एक सेवानिवृत्त डीजीपी कहते हैं कि सामूहिक रूप से इस तरह का पत्र जारी करना पुलिस महकमे की परंपरा और अनुशासन के खिलाफ है। यह किसी का व्यक्तिगत अधिकार हो सकता है लेकिन महकमे में एसएसपी पद के अनुरूप नहीं है। अगर ऐसी परंपराएं शुरू हुई तो इससे अनुशासनहीनता को बढ़ाया मिलेगा।


Check Also

यूपी के फिरोजाबाद में कोरोना के साथ वायरल फीवर और डेंगू का बढ़ता जा रहा कहर, फिर सामने आए इतने केस

यूपी के फिरोजाबाद में वायरल फीवर और डेंगू का कहर और भी तेजी से बढ़ता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *