Home >> Breaking News >> Varanasi: कांग्रेस को दमदार उम्मीदवार की तलाश

Varanasi: कांग्रेस को दमदार उम्मीदवार की तलाश


congress varanasi
वाराणसी,एजेंसी-28 मार्च। उत्तर प्रदेश के वाराणसी में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी और आम आदमी पार्टी (आप) की तरफ से अरविंद केजरीवाल के लोकसभा चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद अब सबकी निगाहें कांग्रेस पर हैं। कांग्रेस की तरफ से कई नाम चर्चा में हैं। कहा जा रहा है कि पार्टी आलाकमान को ऐसे प्रत्याशी की तलाश है जो स्थानीय और दमदार हो, जिसके नाम पर जीतने लायक वोट जुटाए जा सके।
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पिछले दिनों जब वाराणसी में रिक्शा चालकों के साथ चौपाल लगाई और काशी विश्वनाथ मंदिर के दर्शन करने गए तो उनके साथ केवल कुछ स्थानीय नेताओं को ही साथ रहने की अनुमति मिली। इसके बाद स्थानीय नेता और विधायक अजय राय को कांग्रेस का टिकट मिलने के कयास लगने लगे।
जैसे ही भाजपा की तरफ से मुरली मनोहर जोशी के स्थान पर मोदी के नाम का ऐलान हुआ, कांग्रेस संजीदा हो गई और मोदी को हराने के लिए सारे मजबूत विकल्पों पर विचार करने लगी।
कांग्रेस नेता अजय राय ने कहा, ”हमारी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व चाहता है कि स्थानीय नेता को टिकट दिया जाए। बाहरी नेता आते हैं और वाराणसी को ठगकर चले जाते हैं। भाजपा ने पहले जोशी को मैदान में उतारकर ठगा, अब मोदी को लाकर फिर से ठगने की तैयारी हो रही है।”
दरअसल, स्थानीय उम्मीदवार की मांग कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के नाम की चर्चा उठने के बाद उठी। तब कई नाम निकलकर सामने आए, जिसमें काशी राजघराने के सदस्य अभिभूषण सिंह के अलावा संकट मोचन मंदिर के महंत के बेटे का नाम भी शामिल है। हालांकि अभी तक इनमें से किसी से पार्टी की तरफ से आधिकारिक रूप से संपर्क नहीं किया गया है।
महंत के बेटे वी.एऩ मिश्रा कहते हैं, ”हमसे अभी तक इस बारे में संपर्क नहीं किया गया है। यह हमारे लिए एक नई चुनौती होगी। हम अगर कोई जिम्मेदारी लेंगे तो पूरा भी करेंगे।” स्थानीय उम्मीदवार के लिए एक शर्त ब्राह्मण होना भी मानी जा रही है। इसके पीछे की वजह यहां का जातीय समीकरण बताया जा रहा है।
वाराणसी में दो लाख ब्राह्मण, दो लाख कुर्मी, ढाई लाख मुसलमान, सवा लाख भूमिहार और 90 हजार यादव सहित अन्य जातियां हैं।
कांग्रेस की राज्य कमेटी में महासचिव एवं स्थानीय कांग्रेस नेता सतीश चौबे कहते हैं कि पार्टी की मंशा है कि स्थानीय स्तर पर ही किसी दमदार ब्राह्मण चेहरे को मोदी के खिलाफ वाराणसी से उतारा जाए। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक, पार्टी काशी राजपरिवार और महंत परिवार में से किसी एक को मैदान में उतारने के लिए गंभीरता से विचार कर रही है।
उल्लेखनीय है कि वाराणसी सीट पर वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में मुरली मनोहर जोशी ने करीब 16 हजार मतों से बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के मुख्तार अंसारी को हराया था।


Check Also

‘जमुई विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी छोटी बहन श्रेयसी सिंह को ढेर सारी शुभकामनाएं : चिराग पासवान

लोजपा अध्यक्ष और जमुई से सांसद चिराग पासवान ने भाजपा उम्मीदवार श्रेयसी सिंह के लिए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *