Wednesday , 27 March 2019
खास खबर
Home >> Breaking News >> नीतीश का घोषणा पत्र : युवाओं पर खेला दांव, पेश की पांच साल की योजनाएं

नीतीश का घोषणा पत्र : युवाओं पर खेला दांव, पेश की पांच साल की योजनाएं


पटना,(एजेंसी)28 अगस्त। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार संवाद भवन में अपनी अगले पांच साल की योजनाओं का खुलासा किया। देश के सबसे अधिक युवाओं के प्रदेश में नीतीश कुमार ने युवाओं पर ही अपना दांव खेला है। अगले पांच साल की सभी योजनाओं में युवाओं को ही तरजीह दी गई है।

नीतीश ने कहा कि अगले पांच साल में बिहार के विकास के लिए दो लाख 70 हजार करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आड़े हाथ लेते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि सवा लाख करोड़ रुपये के पैकेज के जवाब में दो लाख 70 हजार करोड़ रुपये का पैकेज खर्च किया जाएगा।

28_08_2015-nitish-kumar-2

बिहार की 66 फीसद आबादी कृषि पर निर्भर है, इसलिए इस दिशा में कार्य चल रहा है। शिशु मृत्यु दर, मातृ मृत्यु दर, खाद्य सुरक्षा, स्वास्थ्य, शिक्षा आदि अनेक बातों पर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है। अगले पांच सालों में और तेजी से बिहार आगे बढ़ेगा।

नीतीश ने कहा, हमने बहुत कुछ हासिल किया है। हम जिन योजनाओं को चला रहे हैं, उनको आगे क्रियान्वित करना ही है, साथ ही उसमें और भी सुधार करेंगे। इसके आगे कुछ कार्यक्रमों को और चलाना है, उसी की चर्चा के लिए आपके सामने आया हूं।
बिहार में युवा आबादी सबसे अधिक है। यहां हमें युवा बहुल राज्य के लिए शिक्षा, रोजगार के अवसर, कौशल विकास को सक्षम बनाने की ओर ध्यान देना होगा। नई पीढ़ी जबतक रोजगार न पाए और सक्षम न हो तो लक्ष्य हासिल नहीं कर सकते।

नीतीश कुमार की प्रमुख घोषणाएं-
स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड का उपहार
नीतीश कुमार ने कहा, स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना शुरू करेंगे। चार लाख रुपये तक लोन का 12वीं के छात्र लाभ उठा सकेंगे। सरकार इसके ब्याज में तीन फीसद की सब्सिडी देगी। हर प्रखंड में रोजगार के लिए युवाओं का पंजीकरण होगा, साथ ही कौशल विकास के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा।

मिलेगा स्वयं सहायता भत्ता
जो युवा बेरोजगार हैं, उनको स्वयं सहायता भत्ता दिया जाएगा। इसके लिए 20 से 25 साल की आयु के लोग पात्र होंगे। नौ माह तक एक हजार रुपये इसके तहत दिया जाएगा। इस भत्ते की वजह से युवाओं को रोजगार तलाशने में मदद मिलेगी। कई बार रोजगार तलाशने के क्रम में पैसे की कमी आड़े आती है, इससे ये परेशानी दूर होगी।

उद्यमिता विकास के लिए मदद
500 करोड़ रुपये का उद्यमिता विकास के लिए फंड का प्रावधान किया गया है। जो युवा अपना उद्योग लगाना चाहते हैं, उनको इसका लाभ दिया जाएगा। सभी विश्वविद्यालय और कॉलेजों में निश्शुल्क वाइ-फाइ सुविधा दी जाएगी।

पाइप वाटर सप्लाई योजना
पाइप वाटर सप्लाई बिहार में चार फीसद ही है। बाकी पानी की व्यवस्था दूसरे तरीके से होती है। राज्य के हर घर में पानी पाइप लाइन पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। सभी नागरिकों को स्वच्छ जल उपलब्ध कराएंगे। सभी क्षेत्रों के करीब 16 लाख परिवार लाभान्वित होंगे। इसमें करीब 43700 करोड़ रुपये का खर्च आएगा।

हर घर में शौचालय
राज्य के हर घर में शौचालय लगवाएंगे। इसमें 28700 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। इससे 1 करोड़ 64 लाख गांव के जबकि सात लाख 52 हजार शहरों के परिवार लाभान्वित होंगे।

हर घर में बिजली
अगले पांच साल में हर घर में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य है। इसके तहत करीब 55600 करोड़ रुपये का खर्च आएगा।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के आगे भी कार्य
जहां तक प्रधानमंत्री सड़क योजना पहुंचेगी, उसके आगे राज्य सरकार कार्य करेगी। जो गांव इससे दूर होंगे वहां तक सड़क पहुंचाएंगे। गांवों के बीच पक्की सड़क और नाली बनवाने की योजनाएं भी लाएंगे। इस कार्य को पूरा करने के लिए 78 हजार करोड़ रुपये का खर्च आएगा।

सभी नौकरियों में महिलाओं को 35 फीसद आरक्षण

राज्य की सभी सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 35 फीसद आरक्षण दिया जाएगा।
पांच मेडिकल कॉलेज का तोहफा

उच्च शिक्षा के क्षेत्र में नीतीश कुमार ने बेहतर विकास की बात कही है। स्वास्थ्य क्षेत्र में विकास के लिए पांच नए मेडिकल कॉलेज बनवाने की बात कही। उच्च शिक्षा के लिए जिला व अनुमंडल में उच्च शिक्षा की कमेटी का गठन किया जाएगा। महिला आइटीआइ, इंजीनियरिंग कॉलेज, स्कूल, पैरामेडिकल इंस्टीट्यूट, पॉलिटेक्निक, नर्सिंग कॉलेज की स्थापना की जाएगी।

नीतीश ने कहा, हमारी जो योजनाएं चल रही है, उनसे अलग अन्य योजनाओं को शुरू किया जाएगा। इसके साथ ही पुरानी योजनाओं को भी अपडेट किया जाएगा। अपने अनुभव के आधार पर हमने सोचा है कि जो कार्य हो रहा है, उससे अलग भी अगले पांच साल तक कार्य करेंगे अगर बिहार के लोगों ने मौका दिया।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Study Mass Comm