Home >> In The News >> शिवसेना ने पहली बार की ‘गांधी परिवार’ की तारीफ,मोदी सरकार पर साधा निशाना

शिवसेना ने पहली बार की ‘गांधी परिवार’ की तारीफ,मोदी सरकार पर साधा निशाना


Shiv-Sena-says-12395मुंबई। महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना मोदी सरकार को घेरने का कोई भी मौका नहीं छोड़ती है। शिवसेना ने एक बार फिर मोदी सरकार को निशाने पर लिया है। पार्टी ने एनडीए सरकार के दो साल पूरे होने के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण पर निशाना साधा है। यही नहीं शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखे लेख में पहली बार नेहरू-गांधी परिवार की भी तारीफ की है।

शिवसेना ने कहा, हम पंडित नेहरू को नहीं भुला सकते

शिवसेना ने लिखा है कि बीते 60 सालों में हर पीएम ने विकास होने का दावा किया है। यह कहना कि पिछली सरकारों के कार्यकाल में कुछ नहीं हुआ है, यह पूरी तरह गलत होगा। उन्होंने लिखा कि अगर पिछली सरकारों ने कुछ न किया होता तो आज भारत इस स्तिथि में न होता। पंडित नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और पीवी नरसिम्हा राव जैसे नेताओं को भुलाकर आप कुछ भी नया करने की नहीं सोच सकते। यहां तक कुछ महीनों के लिए ही पीएम बनने वाले एचडी देवेगौड़ा भी कह सकते हैं कि उनके दौर में देश ने विकास किया है।

हर राज्य को केंद्र से शिकायत है

पीएम मोदी की ओर से राज्यों को ताकत दिए जाने के दावे पर शिवसेना ने कहा कि क्या गैर बीजेपी शासित राज्यों को भी मजबूती दी गई है। पार्टी ने लिखा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री की शिकायत है कि केंद्र सरकार उनके राज्य से सौतेली मां की तरह बर्ताव कर रही है। चंद्रबाबू नायडू का भी कहना है कि केंद्र सरकार को अभी अपने वादे पूरे करने हैं। महाराष्ट्र को भी सूखे से निपटने के लिए पर्याप्त आर्थिक सहायता नहीं दी गई है

इससे पहले भी मोदी सरकार पर साधा था निशाना

शिवसेना ने इससे पहले अमेरिका की बहादुरी की तारीफ करते हुए कहा था कि तालिबान के प्रमुख मुल्ला अख्तर मंसूर को अमेरिका ने पाकिस्तान में घुसकर मौत की नींद सुला दिया। इसी तरह की हिम्मत उसने 2011 में ओसामा बिन लादेन के खिलाफ दिखाई थी। अन्य मौकों पर शेखी बघारने वाले हिंदुस्तान को अब अमेरिका की इस कार्रवाई से सबक लेना चाहिए। सामना में लिखा गया था कि हमारे पीएम मोदी ओबामा के प्रेम में पड़े हैं और उन्हें वे सार्वजनिक आलिंगन वगैरह देते हैं, लेकिन हमने अमेरिका से क्या सीखा? क्या लिया? तो सिर्फ कर्ज, उधारी या रक्षा दल के लिए हवाई जहाज।

 

Check Also

ताजनगरी में कोविड-19 के नए केसों में लगातार कमी, 200 के करीब

कोरोना वायरस से निपटने के प्रशासनिक इंतजार अब भी नाकाफी हैं। ऑक्‍सीजन लेने से लेकर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *