Home >> Breaking News >> लोकसभा चुनाव 2014 के प्रचार का आज आखिरी दिन समाप्त

लोकसभा चुनाव 2014 के प्रचार का आज आखिरी दिन समाप्त


Election
नई दिल्ली,एजेंसी-10 मई। लोकतंत्र का महापर्व इतने लंबे दिनों तक कभी नहीं मनाया गया था। इससे पहले कभी मतदान प्रक्रिया नौ चरणों तक नहीं खिंची थी। अब इस ऐतिहासिक महासमर के प्रचार का शोर थमने का समय आ गया है। 10 मई नौंवे और आखिरी चरण के प्रचार का अंतिम दिन है। सभी दलों के दिग्गजों के लिए अपनी बात मतदाताओं तक पहुंचाने का आखिरी मौका भी। 12 मई को उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल की शेष बचीं 41 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। जिन प्रमुख प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होना है उनमें भाजपा के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी, सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल के अलावा केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह, फिल्म निर्देशक प्रकाश झा और कांग्रेस से भाजपा में आए जगदंबिका पाल का नाम उल्लेखनीय है।
543 संसदीय सीटों में से 502 पर मतदान प्रक्रिया संपन्न हो चुकी है। इससे पहले हुए आठ चरणों में 59.70 करोड़ मतदाताओं ने अपने अधिकार का प्रयोग किया। यह अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा है। आतंकी और नक्सली हमले की घटनाओं के बावजूद लोगों के कदम नहीं ठिठके। भीषण गर्मी भी उन पर कोई प्रभाव नहीं छोड़ पाई। महिलाओं और बुजुर्गो ने भी परिवर्तन की आस में इस बार जमकर वोटिंग की है। पहले चरण के मतदान में सात अप्रैल को उत्तर-पूर्व की छह सीटों पर लोगों ने अपने अधिकार का प्रयोग किया। ठीक दो दिन बाद नौ अप्रैल को भी देश के इसी हिस्से में सात सीटों पर वोट डाले गए। दस अप्रैल को तीसरे दौर के तहत 91 सीटों पर मतदान हुआ। इसके बाद चौथे चरण में सीटों की संख्या में कमी आई और 12 अप्रैल को सिर्फ सात सीटों पर वोटिंग हुई। पांच दिन बाद पांचवे दौर के अंतर्गत 17 अप्रैल को आम चुनाव के इतिहास में सबसे अधिक सीटों पर मतदान हुआ। इससे पहले कभी एक साथ 121 सीटों पर वोट नहीं डाले गए थे। 24 अप्रैल को छठे चरण में 117 सीटों पर उम्मीदवारों के भाग्य की परीक्षा ली गई। सातवें चरण का मतदान 30 अप्रैल को कराया गया। इसमें 89 संसदीय सीटें शामिल थीं। गत सात मई को ही आठवें दौर की मतदान प्रक्रिया खत्म हुई है। इसमें 64 सीटों पर लड़ाई थी। नरेंद्र मोदी और मुलायम सिंह यादव दो-दो सीटों से मैदान में हैं।


Check Also

नवरात्रि की अष्टमी के दिन महागौरी की कथा को जरूर सुनना चाहिए : धर्म

शारदीय नवरात्रि का पावन पर्व अपनी समाप्ति की ओर बढ़ रहा है। नवरात्रि की अष्टमी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *