Home >> Breaking News >> राम मंदिर के लिए जीतना जरूरी था ताकि कोई गिराने की हिम्मत न करे- अशोक सिंघल

राम मंदिर के लिए जीतना जरूरी था ताकि कोई गिराने की हिम्मत न करे- अशोक सिंघल


Ashok Singhal

नई दिल्ली,एजेंसी-23 मई। कभी राम मंदिर मुद्दे को हर हाल में बनवाने की मांग करने वाले विश्‍व हिंदू परिषद का रुख अब नरम हो गया है। मंदिर निर्माण पर वीएचपी में नरमी दिखाई दे रही है। विश्व हिन्दु परिषद के नेता अशोक सिंघल ने मंदिर निर्माण पर नरमी दिखाते हुए कहा है कि भाजपा जिस बहुमत के साथ सत्ता में आई है, ऐसे में वह चाहे तो राम मंदिर भी बना सकती है। सिंघल ने कहा कि मोदी अपने एजेंडे पर कार्य करेंगे और गुजरात की तरह सभी वर्ग के लोगों को समान अवसर देंगे। सिंघल ने यह भी कहा कि इन चुनावों ने यह साफ कर दिया है कि अल्पसंख्यक वोटों की सार्थकता एक भ्रम था जो इस चुनाव के साथ खत्म हो गया है। उन्होंने कहा कि भाजपा को मिले स्पष्ठ बहुमत का अर्थ भी यहीं है कि भाजपा चाहे तो राम मंदिर बना लें, ताकि कोई उसे गिराने की हिम्मत न कर सके।
अशोक सिंघल ने कहा कि भाजपा को जो विशाल जनादेश मिला है, उसे देखते हुए राममंदिर पर संशय नहीं रहना चाहिए। सिंघल ने कहा कि वे जानते हैं कि देश का हिंदू हो या मुसलमान, नई सरकार सभी को समान अवसर देगी। और देश की जनता भी यह समझती है। यह पूछे जाने पर कि क्या अल्पसंख्यकों ने भाजपा को वोट नहीं दिया है। इस प्रश्न के जवाब में सिंघल ने कहा कि इस वर्ग के जिन लोगों ने भाजपा को वोट दिया है, उन्होंने भारतीय के तौर पर अपना मत दिया है। उन्होंने कहा कि देश के अल्पसंख्यक अब समझ चुके हैं कि कांग्रेस और अन्य दल उनका इस्तेमाल करते रहे हैं।


Check Also

जब व्यक्ति अपनी क्षमता का आंकलन कर लेता है तभी उसका उद्धार हो पाता है : भगवान कृष्ण

श्रीमद्भागवत गीता में भगवान कृष्ण के द्वारा रण भूमि में अर्जुन को उपदेश दिए गए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *