Home >> Breaking News >> मुंबई ने 26/11 के पीड़ितों को याद किया

मुंबई ने 26/11 के पीड़ितों को याद किया


mumbai attacksमुंबई, एजेंसी | 26 नवंबर, 2008 को मुम्बई में हुए आतंकवादी हमले की पांचवीं बरसी पर मंगलवार को महानगर के विभिन्न हिस्सों में आयोजित स्मृति समारोहों में शहीदों, पीड़ितों और जिंदा बचे लोगों को याद किया गया। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण उनके मंत्रिमंडल के सहयोगियों और शीर्ष पुलिस अधिकारियों सहित 26/11 के शहीदों के परिजनों ने चौपाटी स्थित पुलिस जिमखाना पर बनाए गए स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की।

इस बीच राज्य के गृहमंत्री आर.आर.पाटील और केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री शशि थरूर भी मौजूद थे। ताज महल पैलेस एंड टॉवर होटल तथा ओबेराय ट्राइडेंट, लियोपोल्ड कैफे और नरीमन हाउस में भी ऐसा ही आयोजन की तैयारी की गई है, जहां पाकिस्तान से आए 10 हथियारबंद आतंकवादियों ने हमला किया था। इस हमले में 166 लोगों की मौत हो गई थी और 300 से अधिक लोग घायल हो गए थे। शहर के विभिन्न अखबारों में भी इसे विशेष स्थान दिया गया है, जिसमें घटना की तस्वीरें और मृतकों के परिवार वालों एवं उनकी कंपनियों की ओर से श्रद्धांजलियां शामिल हैं।छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के अधिकारियों ने रेलवे स्टेशन पर ऐसा कोई आयोजन न करने का फैसला किया है, जहां सबसे पहले हमला किया गया था। रेलवे के एक अधिकारी ने कहा, “पांच साल में जिंदगी आगे बढ़ गई है। हम लोगों को वह भयानक दिन याद नहीं कराना चाहते। वे अपनों को दिल में याद कर सकते हैं।”27 नवंबर, 2008 को चौपाटी बीच पर अजमल आमिर कसाब को जिंदा पकड़ने में अपने सहकर्मी का साथ देते वक्त शहीद हुए पुलिसकर्मी बालासाहेब भोंसले के बेटे सचिन भोंसले ने कहा कि इस हादसे के बाद उनके परिवार के लिए जिंदगी बेहद कठिन रही है। उन्होंने कहा, “मेरी मां बधुवार और गुरुवार को अभी भी भावुक हो जाती है। मेरे पिता बुधवार को काम पर गए थे और अगले दिन हमारे परिवार को उनकी मौत की बेहद बुरी खबर मिली।” सचिन के बड़े भाई जहां मुंबई पुलिस में कार्यरत हैं वहीं सचिन को भी राज्य सरकार ने नौकरी दी है और इसके साथ ही मुआवजे के रूप में मिले पेट्रोल पंप का कामकाज देखते हैं।


Check Also

कृषि मंत्रालय: देश के ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक सहकारी समितियों को दिया जाएगा प्रशिक्षण

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने 24 नवंबर को सहकार प्रज्ञा का अनावरण किया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *