Home >> Breaking News >> इराक में अगवा 40 भारतीय सुरक्षित : सुषमा

इराक में अगवा 40 भारतीय सुरक्षित : सुषमा


Foreign Minister Sushma
नई दिल्ली,एजेंसी-20 जून। इराक में उत्पन्न संकट को लेकर दुनिया भर में मचे कोहराम के बीच वहां अगवा हुए भारतीय कामगारों के परिवार वालों के लिए गुरूवार थोड़ी राहत पहुंचाने वाला रहा। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि इराक में अगवा किए गए 40 भारतीय नागरिक सुरक्षित हैं और फिलहाल वे एक सरकारी इमारत में हैं। इराक में अगवा भारतीय कामगारों में से सात के परिजनों से मिलने के बाद उन्होंने कहा, 40 लोग सुरक्षित हैं। जब स्थिति सामान्य होगी हम उन्हें रिहा कराने की कोशिश करेंगे।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूदा हालात पर नजर बनाए हुए हैं। “मैं व्यक्तिगत रूप से सभी विकल्पों पर विचार कर रही हूं। सरकार सभी तरह के प्रयास कर रही है। हम कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।”

उन्होंने कहा, मैं व्यक्तिगत रूप से इस पर नजर रखे हुए हूं। मैं अगवा किए गए कुछ भारतीयों के परिजनों से मिलूंगी। मैं परिजनों को आश्वस्त करना चाहती हूं कि मेरे और सरकार की ओर से हर संभव प्रयास किए जाएंगे।

उत्तरी इराक के मोसुल शहर पर कब्जा जमाने के बाद सुन्नी आतंककारियों ने वहां तुर्की की एक निर्माण कंपनी के लिए काम कर रहे 40 भारतीय कामगारों का अपहरण कर लिया। अगवा हुए कामगारों में ज्यादातर पंजाब के हैं।

इससे पहले विदेश मंत्रालय ने गुरूवार को कहा कि इराक में चरमपंथियों द्वारा अगवा किए गए भारतीय नागरिकों की सुरक्षा और कुशलता को केंद्र सरकार उच्च प्राथमिकता दे रही है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरूद्दीन ने यहां संवाददाताओं से कहा, बगदाद में हमारा दूतावास इस मुद्दे पर लगातार इराकी अधिकारियों के साथ संपर्क बनाए हुए है। सरकार मामले को उच्च प्राथमिकता दे रही है और इराक में भारतीय नागरिकों की सुरक्षा और कुशलता हमारी मुख्य चिंता है।

उन्होंने कहा कि आगे की रणनीति पर चर्चा करने के लिए यहां विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की अध्यक्षता में आपदा प्रबंधन समूह की दो बैठकें हो चुकी हैं।
इराक में मौजूदा संकट सुन्नी आतंकवादियों द्वारा इराक के शहर मोसुल से भारतीय निर्माण मजदूरों का अपहरण कर लिए जाने के बाद पैदा हुआ है।

उधर उत्तरी इराक के तिकरित में फंसी 46 भारतीय नर्सो के विपरीत बगदाद में काम करने वाली नर्से सामान्य रूप से अपना काम कर रही हैं। इन नर्सो में भी अधिकांश केरल की हैं। गुरूवार को बगदाद में काम कर रही नर्सो ने कहा कि देश के कई हिस्सों पर सुन्नी आतंकवादियों के कब्जा जमा लेने के बावजूद यहां उनकी जिंदगी सामान्य रूप से चल रही है। बगदाद से फोन पर बातचीत करते हुए केरल की एक नर्स ने कहा, यहां भारी जांच पड़ताल के बावजूद जिंदगी सामान्य है।

उन्होंने कहा कि वह बगदाद मेडिकल सिटी के एक कांप्लेक्स में रह रही है। इस सिटी में 15 अस्पताल हैं। नर्स ने बताया, चूंकि हम कांप्लेक्स के भीतर रहते हैं इसलिए हमें असुरक्षित महसूस करने का कोई कारण नहीं है। हमारे इराकी साथियों ने हमसे कहा है कि अभी डरने की जरूरत नहीं है।

उन्होंने यह भी बताया कि बगदाद मेडिकल सिटी से बगदाद हवाई अड्डा महज 15 मिनट की दूरी पर है। नर्स ने बताया, केवल यही फर्क है कि अभी सुरक्षा बहुत ज्यादा बढ़ गई है।

उन्होंने कहा कि कांप्लेक्स में काम करने वाली 74 नर्से भारतीय हैं जिनमें से 73 केरल की हैं। ये सभी इसी वर्ष के शुरू में इराक आई हैं। बगदाद हवाई अaे से 70 किलोमीटर दूर कर्बला क्षेत्र में काम करने वाली एक दूसरी नर्स ने भी बताया कि पहले की ही तरह जिंदगी सामान्य रूप से चल रही है।

उन्होंने इस बात का भी खंडन किया कि इराक के सभी हिस्से आतंकवादियों के हमले के खतरे के साए में है। नर्स ने बताया, भारत में कुछ टीवी चैनल यहां के मुद्दे को बढ़ाचढ़ा कर पेश कर रहे हैं। यह सच नहीं है। कुछ चैनल वाले केरल में मेरे घर गए थे और यह सुनने के बाद कि पूरा देश संकट से प्रभावित है मेरे माता-पिता भी घबराहट में हैं।

अपना नाम नहीं बताने की शर्त पर नर्स ने कहा, मेरे मामले में हमारे सामने कोई खतरा नहीं है। हमारे अस्पताल के प्रबंधन ने हमें आश्वासन दिया है कि चीजें बिलकुल सामान्य हैं और चिंता करने की कोई बात नहीं है।


Check Also

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत को नागपुर के अस्पताल से मिली छुट्टी, पांच दिनों के लिए हुए थे होम क्वारंटाइन

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत को शुक्रवार को नागपुर के अस्पताल से छुट्टी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *