Home >> Breaking News >> रेल किराया बढ़ाकर मोदी सरकार ने दी कड़वी गोली

रेल किराया बढ़ाकर मोदी सरकार ने दी कड़वी गोली


Rail fare

रेल किराया 14 % माल भाडा साढे छह % बढा. एमएसटी हुई दोगुनी
नई दिल्ली,एजेंसी-21 जून। गरीबों की सरकार होने के वादे के साथ सत्ता संभालने वाली नरेन्द्र मोदी सरकार ने अपने पहले रेल बजट के एक पखवाडे पहले आज यात्री किरायों में 14.2 फीसदी और माल भाडे में 6.4 प्रतिशत की वृद्धि कर दी तथा दैनिक यात्रियों की सीजन टिकटों की दरें दोगुनी से अधिक कर दी।
रेल किरायों एवं मालभाडों में यह वृद्धि ईंधन समायोजन घटक (एफएसी) की वृद्धि को मिलाकर है। यह वृद्धि 25 जून से लागू होगी। उल्लेखनीय है कि 16 मई को लोंकसभा चुनावों के परिणामों के आने बाद शाम को किरायों एवं मालभाडों में वृद्धि की घोषणा की थी लेकिन उसके कुछ ही घंटे बाद तत्कालीन रेल मंत्री मल्लिकार्जुन खडगे के निर्देश पर इसे वापस ले लिया गया था।
रेल मंत्री डी वी सदानंद गौडा ने आज यहां संवाददाताों से कहा कि उन्होंने पिछली सरकार के आदेश पर लगी रोक को हटाया भर है।
रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार केवल यात्री किरायों में वृद्धि नहीं होने से रेलवे को नौ सौ करोड रूपए का नुकसान हो रहा है।
नरेन्द्र मोदी सरकार के इस पहले कडवे घूंट का चखते ही देश में तीखी प्रतिक्रिया हुई है। कांग्रेस सहित सभी विपक्षी दलों ने इस फैसले की कडी आलोचना की है जबकि यात्रियों खासकर दैनिक यात्रियों ने इस वृद्धि का कडा विरोध करते हुए इसे गरीबों की रोजी रोटी पर आघात बताया है।
रेलवे ने यात्री गाडियों की सभी श्रेणियों में एक समान दस फीसदी किराया बढाने तथार्अींधन समायोजन घटक (एफएसी) की मद में 4.2 प्रतिशत की वृद्धि का फैसला किया है। इस तरह यात्री किराये 14.2 प्रतिशत बढेंगे। हालांकि आरक्षण शुल्क. सुपरफास्ट अधिभार सहित अन्य शुल्कों में कोई वृद्धि नहीं की गई है। इसी तरह मालभाडे में एक समान पांच फीसदी तथा एफएसी के मद में 1.4 प्रतिशत वृद्धि की गई है। इस प्रकार कुल 6.4 प्रतिशत की वृद्धि होगी।
दैनिक यात्रियों के मासिक सीजन टिकट की दरों में भी इजाफा किया गया है। उपनगरीय एवं गैर उपनगरीय द्वितीय श्रेणी के सीजन टिकट की दरें 15 एकल यात्रा के किराये की बजाय 30 एकल यात्रा के किराये के बराबर होंगीं। इस तरह एमएसटी की दरें लगभग दोगुनी हो जाएगी। प्रथम श्रेणी एमएसटी की दरें द्वितीय श्रेणी एमएसटी दरों की चार गुनी होंगी।
रेलवे के अनुसार त्रैमासिक सीजन टिकट. छमाही सीजन टिकट एवं वार्षिक सीजन टिकट की दरें भी इसी अनुपात मे बढेगी जबकि पश्चिम रेलवे एवं मध्य रेलवे को वेंडर सीजन टिकट और टिफिन बास्केट टिकट की दरों में वृद्धि के लिए अधिकृत किया गया हैै।
दैनिक यात्रियों के लिए एमएसटी दरों में की गई वृद्धि पर दिल्ली मुंबई कोलकाता चेन्नई सहित कई स्थानों पर दैनिक यात्री संघों ने कडा विरोध जाहिर किया है।
दैनिक यात्री संघों ने कहा है कि एमएसटी बनवाने वाले ज्यादातर लोग गरीब तबके के होते हैं तथा रोजी रोटी के कारण मजबूरी में रेलगाडियों में मुश्किल हालात में चलते हैं। ऐसे में एमएसटी दरों को दोगुना करने से उनकी रोजी रोटी पर बडा असर पडेगा।


Check Also

बड़ी खबर: चुनाव आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा की

चुनाव आयोग बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा कर रहा है। बिहार की 243 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *