Wednesday , 20 January 2021
Home >> Breaking News >> DU में B.Tech 4 वर्षीय पाठ्यक्रम बना रहेगा

DU में B.Tech 4 वर्षीय पाठ्यक्रम बना रहेगा


DU
नई दिल्ली,एजेंसी-30 जून। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने रविवार को दिल्ली विश्वविद्यालय से केवल वर्ष 2013-14 के अकादमिक वर्ष में दाखिला पाने वाले विद्यार्थियों के लिए चार वर्षीय बीटेक कार्यक्रम जारी रखने को कहा। यूजीसे ने कहा कि उसने विवादास्पद चार वर्षीय स्नातक कार्यक्रम वापस लिए जाने से उत्पन्न अनिश्चितता पर पूर्ण विराम लगा दिया।

आयोग ने डीयू से यह भी सुनिश्चित करने कहा कि उसके अंतर्गत आने वाले कॉलेज, जिन्होंने छात्रों को एफवाईयूपी के तहत विद्यार्थियों को दाखिला दिया, स्वयं यूजीसी तथा एआईसीटीई जैसे नियामक निकायों से मंजूरी लें ताकि एफवाईयूपी वाले विद्यार्थी किसी नुकसान की स्थिति में नहीं रहें।

पच्चीस सौ से अधिक विद्यार्थियों को छह बीटेक कार्यक्रमों- कंप्यूटर साइंस, इलेक्ट्रोनिक्स, फूड टेक्नॉलोजी, पोलीमर साइंस, इंस्ट्रुमेंटेशन एंड इलेक्ट्रोनिक्स तथा साइकोलोजिक साइंस में दाखिला मिला था। वे एफवाईयूपी वापस लिए जाने के बाद से प्रदर्शन कर रहे हैं।

यूजीसी ने यहां जारी एक बयान में कहा कि कंप्यूटर साइंस, इलेक्ट्रोनिक्स, फूड टेक्नॉलोजी, पोलीमर साइंस, इंस्ट्रुमेंटेशन एंड इलेक्ट्रोनिक्स के चार वर्षीय बीटेक कार्यक्रम और जो यूजीसी अधिनियम की धारा 22 के तहत आते हैं, केवल 2013-14 के दौरान दाखिला पाने वाले के लिए जारी रहेंगे।

अधिकारियों के अनुसार आयोग साइकोलोजिक साइंस कोर्से के बारे में मौन है। इसे और बैचलर मैनेजमेंट स्टडीज तीन वर्षीय पाठ्यक्रम के रूप में तब्दील किए जा सकते है। आयोग बीएमएस पर भी कुछ नहीं बोल रहा। यूजीसी का यह निर्देश उसकी स्थायी समिति की सिफारिश के आलोक में आया है। समिति ने सुझाव दिया कि जो छात्र दाखिला पा चुके हैं उनके लिए चार वर्षीय प्रारूप में कार्यक्रम जारी रखा जाए ताकि उनके हितों को कोई नुकसान न पहुंचे।

समिति ने 23 जून को एफवाईयूपी से तीन वर्षीय पाठयक्रम में बदलाव के लिए उठाए जाने वाले कदमों पर चर्चा की थी। दिल्ली विश्वविद्यालय के बीटेक और बीएमएस के ढेरों विद्यार्थियों ने आज यह मांग करते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री स्मति ईरानी के निवास के बाहर आज सुबह प्रदर्शन किया कि चार वर्षीय पाठयक्रम नहीं निरस्त किया जाए। उन्होंने धमकी दी कि यदि उनके हितों का विश्वविद्यालय ख्याल नहीं रखता है तो वे अदालत जायेंगे।

00

 


Check Also

दिल्ली में बर्ड फ्लू के 11 नए मामले, अब तक 1216 पक्षियों की मौत, 11 की रिपोर्ट पाजिटिव

दिल्ली में बर्ड फ्लू का असर भले ही कम हो गया है, मगर पक्षियों के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *