Home >> Breaking News >> सुषमा ने राजदूतों के साथ की इराक पर चर्चा

सुषमा ने राजदूतों के साथ की इराक पर चर्चा


Sushma
नई दिल्ली,एजेंसी-30 जून। इराक में फंसे भारतीय नागरिकों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए एयर इंडिया ने तीन विमान तैयार रखे हैं.
वहीं, सरकार ने एक उच्च-स्तरीय बैठक कर इराक के हालात की समीक्षा की जिसके बाद बताया गया कि अगवा किए गए 39 भारतीय नागरिक सुरक्षित हैं.

सरकार ने यह भी कहा कि वह विद्रोहियों के कब्जे वाले तिकरित में फंसी 46 भारतीय नर्सों के संपर्क में है और उन्हें भी कोई नुकसान नहीं पहुंचा है.

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने खाड़ी देशों के भारतीय राजदूतों की एक बैठक की अध्यक्षता की ताकि इराक से भारतीय नागरिकों को सुरक्षित बाहर लाया जा सके.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि इराक के अशांत इलाकों में करीब 150 भारतीय फंसे हुए थे और उनमें से करीब 50 लोग वहां से बाहर निकल चुके हैं.

प्रवक्ता ने कहा कि अभी अशांत क्षेत्र में उनकी संख्या 100 से कम है.

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि एयर इंडिया के तीन विमान तैयार रखे गए हैं ताकि भारतीयों को वापस लाने के लिए कम समय में ही इराक के लिए रवाना हो सकें. भारतीयों को वापस लाने की कवायद के लिए एयर इंडिया पूरी तरह तैयार है.

इसके साथ ही इराक में फंसे भारतीयों की मदद के लिए खाड़ी देशों के भातीय दूतावासों के कल्याण कोष का एक हिस्सा बगदाद स्थित अपने दूतावास को देगा.

भारत इराक में मौजूद अपने करीब 10,000 नागरिकों को वहां से सुरक्षित बाहर निकालने की कवायद में जुटा है.

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की अध्यक्षता में हुई खाड़ी देशों के शीर्ष भारतीय दूतों की एक बैठक में यह फैसला किया गया. इराक में फंसे भारतीयों की संरक्षा और उन्हें वहां से बाहर निकालने के लिए भविष्य की रणनीति तैयार करने के मुद्दे पर चर्चा के लिए यह बैठक बुलाई गई थी.

सुषमा ने इराक में बंधक बनाकर रखे गए भारतीयों के परिवारों से भी मुलाकात की. परिवारों से मुलाकात के बाद सुषमा ने कहा कि उन्होंने उन्हें बताया कि इराक में काम कर रहे मानवतावादी संगठन ‘रेड क्रीसेंट’ से उनकी क्या बात हुई और भारतीय राजूदत की ओर से परिजनों को भेजे गए लिखित संदेश को भी पढ़कर सुनाया गया.

उन्होंने कहा कि मैंने राजदूत की ओर से लिखा गया संदेश उन्हें पढ़कर सुनवाया. वे राजदूत के लिखित संदेश से संतुष्ट हैं.

राजदूतों के साथ सुषमा की बैठक के बारे में विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि बैठक का मकसद ‘क्षेत्र में ताजा घटनाक्रम के बारे में राजदूतों का आकलन जानना था’ और इराक में फंसे भारतीय नागरिकों को अन्य खाड़ी देशों से दी जा सकने वाली सहायता के बारे में सूचना प्राप्त करना था.

प्रवक्ता ने कहा कि विदेश मंत्री ने अब फैसला किया है कि खाड़ी देशों में स्थित हमारे दूतावासों में उपलब्ध भारतीय समुदाय कल्याण कोष का एक हिस्सा इराक में मौजूद भारतीय नागरिकों के लिए इस्तेमाल किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि उन्होंने पहले ही यह निर्देश दिए हैं और हम समझते हैं कि रविवार सुबह के उनके निर्देश के बाद से दो भारतीय दूतावासों से बगदाद स्थित हमारे दूतावास में कोष का अंतरण किया जा चुका है.

प्रवक्ता ने कहा कि लिहाजा, भारतीय नागरिकों की सहायता के लिए बगदाद स्थित मिशन में हमारी गतिविधियों के लिए पर्याप्त धन उपलब्ध है.

क्षेत्र के भारतीय राजदूतों से सूचना प्राप्त करने के बाद सुषमा ने यहां तैनात खाड़ी देशों के राजदूतों से विस्तृत चर्चा की थी ताकि हालात के बारे में उनकी समझ का पता चले और यह समझा जा सके कि उनके देशों द्वारा भारतीयों को किस तरह की मदद दी जा सकती है.
खाड़ी देशों में कतर, ओमान, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत भी मौजूद थे.


Check Also

PM मोदी जी को जन्मदिन के अवसर पर बधाई मैं आपके अच्छे स्वास्थ्य व खुशियों की कामना करता हूं: नेपाल के PM केपी शर्मा ओली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की शुभकामनाएं देते हुए फिनलैंड की प्रधानमंत्री सना मारीन ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *