Home >> Breaking News >> महंगाई पर सरकार को घेरने की तैयारी

महंगाई पर सरकार को घेरने की तैयारी


Modi ji
नई दिल्ली,एजेंसी-7 जुलाई। अब जबकि बजट सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है ऐसे में लोगों की निगाहें आम बजट से पहले आने वाले रेल बजट पर जाकर टिक गईं हैं। विपक्ष ने भी इस सत्र को लेकर अपनी कमर कस ली है। कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों ने सरकार को घेरने की पूरी तैयारी की है। महंगाई पर कांग्रेस स्थगन प्रस्ताव तक ला सकती है। मोदी सरकार के पहले रेल बजट में कुछ ऐसी योजनाओं का प्रस्ताव किए जाने की संभावना है जिनसे रेलवे की तस्वीर, रफ्तार और क्षमता में आमूलचूल परिवर्तन नजर आने लगेगा। मंगलवार को रेलमंत्री डीवी सदानंद गौड़ा लोकसभा में अपना पहला बजट पेश करेंगे जिसमें प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी की रेलवे को लेकर कल्पना नजर आएगी। बजट में देश में हाईस्पीड बुलेट ट्रेन, सेमी हाई स्पीड ट्रेन की शुरुआत के साथ यात्री सुविधाओं, ऊर्जा संरक्षण, यात्री सुरक्षा एवं संरक्षा, भोजन की उत्तम गुणवत्ता तथा स्वच्छता पर जोर रहने की उम्मीद है। हाल ही में दिल्ली आगरा रेलखंड पर पटरियों की खामियों को दुरुस्त करके 160 किलोमीटर की गति से चलने वाली ट्रेन का परिचालन परीक्षण किया गया है। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अरुनेन्द्र कुमार पहले कह चुके हैं कि वर्षा 2014 के आखिर तक दिल्ली-आगरा मार्ग पर 160 से 200 किलोमीटर की गति वाली ट्रेन चलने लगेगी और दोनों शहरों के बीच की दूरी 80 मिनट से कम समय में पूरी हो सकेगी। ऐसी संभावना है कि बजट में इस सेमी हाई स्पीड ट्रेन की घोषणा की जाएगी। मोदी के बुलेट ट्रेन के सपने को पूरा करने के लिए रेलवे का उपक्रम राइट्स और जापान अंतरराष्ट्रीय सहायता एजेंसी जाइका मुंबई एवं अहमदाबाद के बीच हाईस्पीड रेल कारीडोर की संभावनाओं पर संयुक्त रूप से अध्ययन कर रही है। रिपोर्ट के मई 2015 में आ जाने की आशा है। मोदी की अगस्त में संभावित जापान यात्रा के दौरान इसमें कोई नई प्रगति हो सकती है। सूत्रों के अनुसार, बजट में इस मार्ग के अलावा कुछ नए मार्गों जैसे दिल्ली-आगरा लखनऊ, वाराणसी-पटना मार्ग, चेन्नई., बेंगलुरु हैदराबाद मार्ग तथा मुंबई अहमदाबाद मार्ग को उदयपुर जयपुर होकर दिल्ली तक बढ़ाने की संभावनाओं पर अध्ययन शुरू कराने का ऐलान हो सकता है। रेल बजट में जिन कदमों की घोषणा होने की संभावना है उनमें देश में रेलगाडिय़ों के पुराने कोचों को चरणबद्ध ढंग से बदल कर आधुनिक एलबीएच कोच लगाना, गाडिय़ों में टक्कर रोधी प्रणाली लगाना, सभी राजधानी एवं शताब्दी गाडिय़ों में वाईफाई इंटरनेट कनेक्टिविटी की सुविधा मुहैया कराना, शताब्दी गाडिय़ों में हर सीट पर हवाई जहाज की तर्ज पर छोटे टीवी स्क्रीन लगाना, प्रमुख रेलमार्गों पर पुरानी पटरियों को बदलना एवं पटरियों के ज्वांइट को दुरुस्त करना, स्टेशनों पर प्लेटफार्म शेड एवं अन्य खाली स्थानों पर सौर पैनल लगाना शामिल है।


Check Also

सामरिक अभियान भारत की ताकत हुई दोगुनी भारतीय नौसेना को मिला युद्धपोत INS कावारत्ती

भारतीय सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने गुरुवार को विशाखापत्तनम में भारतीय नौसेना को पनडुब्बी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *