Home >> Breaking News >> सपा को महंगा पड़ेगा जन विरोधी काम: वरुण गांधी

सपा को महंगा पड़ेगा जन विरोधी काम: वरुण गांधी


Varun
लखनऊ,एजेंसी-11 जुलाई। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव तथा सुल्तानपुर से सांसद वरुण गांधी ने उत्तर प्रदेश सरकार को चेतावनी दी है। आपरेशन कांठ की कमान संभालने आज मुरादाबाद के सांसद सर्वेश सिंह के साथ वरुण गांधी सड़क मार्ग से दिल्ली से मुरादाबाद पहुंचे हैं।
वरुण गांधी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सपा सरकार जनहित विरोधी काम कर रही है। उन्होंने कहा कि सपा सरकार के इस काम से ऐसी क्रांति आएगी जिसमें सपा वालों को बचने की भी जगह नहीं मिलेगी। वरुण गांधी का कार्यक्रम कांठ के बवाल के मामले में जेल में बंद लोगों से मुलाकात करने का है।
उधर मुरादाबाद जिला तथा पुलिस प्रशासन दो दिन से शांत दिख रहे कांठ कस्बे में आज भी मुस्तैद है। वरुण गांधी का भाजपा के उन सभी साठ कार्यकर्ताओं से मिलने का कार्यक्रम है जिनको कांठ के बवाल के बाद जेल में बंद दिया गया है। इन सभी पर सरकार रासुका लगाने की तैयारी में है। अभी इन सभी पर रासुका लगाने का मामला तय नहीं हो पा रहा है। अभी इन सभी को 15 जुलाई तक अंदर रहना है। इसके बाद भी आज वरुण गांधी के आने के कार्यक्रम की खबर से इनके चेहरे खिले हैं। प्रदेश नेतृत्व के महापंचायत की बात से पीछे हटने के बाद से वरुण गांधी का कांठ आने का कार्यक्रम इनको हौसला दे रहा है।
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी का कल कांठ आने का कार्यक्रम है। कांठ बवाल में जेल में बंद भाजपा के साठ कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए अभी तक कोई भी बड़ा भाजपा नेता यहां नहीं आया है जबकि कार्यकर्ता ये उम्मीद लगाए बैठे थे कि उनके जेल जाने के बाद कोई बड़ा आंदोलन होगा और पार्टी पूरी ताकत से उनके पीछे खड़ी होगी। कार्यकर्ताओं में पनप रहे गुस्से को भांपते हुए भाजपा ने अब वरुण गांधी को आगे किया है।
गौरतलब है कि कांठ में 27 जून और चार जुलाई को हुए बवाल के बाद नब्बे से अधिक कार्यकर्ता जेल में बंद हैं। इनमें हिंदू जागरण मंच, आरएसएस और भाजपा के प्रांत स्तर के पदाधिकारी भी बंद हैं। इसको लेकर भाजपा के प्रदेश नेतृत्व से लगातार नेताओं का आगमन बना हुआ है।
प्रदेश महामंत्री स्वतंत्र देव सिंह के अलावा पूर्व मंत्री, विधायक एवं अन्य पदाधिकारी आ चुके हैं और कार्यकर्ताओं से मिल रहे हैं। जेल में बंद कार्यकर्ताओं को संघर्ष का मंत्र दिया जा रहा है। बंद कार्यकर्ताओं की जमानत को लेकर भी स्थानीय भाजपा नेता सक्रियता से जुटे हैं। इसमें महानगर, जिला और क्षेत्र के पदाधिकारी अपने-अपने स्तर से काम कर रहे हैं। कार्यकर्ताओं की जमानत याचिका पर सुनवाई 14 और 15 जुलाई को अलग-अलग है।


Check Also

बिहार विधानसभा चुनाव इस बार एक बूथ पर सिर्फ एक हजार ही मतदाता होंगे: मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा

कोरोना संकट के बीच बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान हो गया है. चुनाव आयोग ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *