Home >> Breaking News >> वैदिक-सईद मुलाकात : सरकार ने झाड़ा पल्ला, रिपोर्ट तलब

वैदिक-सईद मुलाकात : सरकार ने झाड़ा पल्ला, रिपोर्ट तलब


hafiz_vaidik
नई दिल्ली,एजेंसी-16 जुलाई | योग गुरु स्वामी रामदेव के निकटतम सहयोगी पत्रकार वेदप्रताप वैदिक की पाकिस्तानी आतंकवादी और 26/11 हमलों के प्रमुख साजिशकर्ता हाफिज सईद से लाहौर में हुई मुलाकात को लेकर देश में उठे राजनीतिक तूफान पर सरकार ने मंगलवार को अपनी सफाई में कहा कि इस घटना से उसका कोई लेना-देना नहीं है। सरकार ने कहा है कि पाकिस्तान स्थित उच्चायोग से इस मामले में विस्तृत रिपोर्ट तलब की गई है।

वैदिक (69) की सईद से मुलाकात विवादों में है। कांग्रेस इस मुद्दे पर नरेंद्र मोदी सरकार को घेरने में जुटी है। विपक्ष ने सवाल किया है कि क्या वैदिक सरकार के दूत के रूप में सईद से मिलने गए थे। वहीं, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने वैदिक से नाता होने से इनकार करते हुए कहा है कि वह 2008 के मुंबई हमले की साजिश के मुख्य आरोपी सईद को आतंकवादी मानती है।

दिन भर थोड़े-थोड़े अंतराल पर इस मुद्दे के गर्म होने के बाद राज्यसभा में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, “भारत सरकार वेदप्रताप वैदिक की हाफिज सईद के साथ मुलाकात को खारिज करती है। मैं इसकी निंदा करती हूं। हमने पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। हम उस रिपोर्ट को सदन में रखेंगे।”

इससे पहले सुषमा ने लोकसभा में कहा, “मैं स्पष्ट रूप से कहना चाहूंगी कि वेद प्रताप वैदिक की पाकिस्तान यात्रा या वहां उनकी हाफिज सईद से मुलाकात का सरकार से कोई लेना-देना नहीं है।”

उन्होंने कहा, “न तो पाकिस्तान रवाना होने से पहले और न ही वहां पहुंचने के बाद वैदिक ने हमें सूचित किया था कि वह सईद से मिलने वाले हैं.. यह पूरी तरह से निजी यात्रा और व्यक्तिगत मुलाकात थी।” उन्होंने कहा, “और यहां जो आरोप लगाए जा रहे हैं कि वह किसी के दूत के रूप में गए थे या सरकार ने उनकी मुलाकात सुनिश्चित की थी, वे पूरी तरह से गलत, निराधार और दुर्भाग्यपूर्ण हैं।”

मंगलवार को लोकसभा की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस के सदस्यों ने इस मुद्दे पर सरकार से स्पष्टीकरण की मांग करते हुए नारेबाजी शुरू कर दी। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने विपक्ष को चर्चा के लिए नोटिस देने को कहा और प्रश्नकाल स्थगित करने से इनकार कर दिया।

हंगामे के बीच गृह मंत्री राजनाथ सिंह और संसदीय कार्य मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि सरकार इस मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है। इसके बाद भी हंगामा जारी रहा, जिसके कारण सदन की कार्यवाही 20 मिनट तक स्थगित करनी पड़ी। संसद के उच्च सदन में भी कांग्रेस, वामपंथी पार्टियों, जनता दल (युनाइटेड) और तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों ने हंगामा किया जिससे दोपहर से पहले कार्यवाही दो बार स्थगित हुई।

जब सदन में कामकाज बहाल हुआ तब कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सरकार को बयान देना चाहिए क्योंकि वैदिक के कदम से देश की सुरक्षा पर चिंता पैदा हो गई है। आजाद ने कहा, “वैदिक ने सईद से कहा कि कश्मीर को भारत से अलग हो जाना चाहिए।”

संसद की कार्यवाही शुरू होने के पहले ही कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी यह जानने के लिए ‘उत्सुक’ है कि हाफिज सईद से वेदप्रताप वैदिक की मुलाकात क्या पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग ने सुनिश्चित कराई थी?

राहुल ने यहां संवाददाताओं से कहा, “सवाल यह है कि क्या पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग ने यह मुलाकात सुनिश्चित कराई थी या उच्चायोग ने किसी भी तरह से वैदिक की सहायता की थी?” राहुल ने वैदिक को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का व्यक्ति बताया और कहा कि यह ‘ज्ञात तथ्य’ है।

विवाद मचने के बाद वैदिक ने लगातार दूसरे दिन इस बात पर जोर दिया कि वह सईद से एक पत्रकार के तौर पर मिले और उनका किसी भी राजनीतिक दल से कोई लेना-देना नहीं है। सईद का पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी के साथ गहरा रिश्ता रहा है। राहुल की दलील को ‘बकवास’ करार देते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस उनका सरकार के साथ रिश्ता साबित करने पर तुली है ताकि उनके सहारे वह सरकार को आड़े हाथों ले सके।


Check Also

केन्द्रीय मंत्री राम विलास पासवान के बेटे चिराग पासवान से बिहार चुनाव से काफी उम्मीद लगाई जा रही

लोक जनशक्त‍ि पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान के एक बयान ने बिहार की राजनीति में खलबली …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *