Home >> Breaking News >> ओबामा ने दी इराक में हवाई हमले को मंजूरी

ओबामा ने दी इराक में हवाई हमले को मंजूरी


Obama

वाशिंगटन,एजेंसी-8 अगस्त। अमेरिका उत्तर पश्चिमी इराक में सुन्नी आतंकवादियों के तेजी से बढते प्रभाव के कारण अमेरिकी हितों तथा स्थानीय नागरिकों के लिए उत्पन्न खतरों को देखते हुए वहां हवाई हमले की तैयारी कर रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कल देर शाम व्हाइट हाउंस में अपने सुरक्षा सलाहकार के साथ बातचीत के बाद संवाददाताओं से कहा.अमेरिकी वायुसेना के विमान कुर्द बहुल सिन्जार पहाडी क्षेत्र में आंतकवांदी हमलों से घिरे याजिदी अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के लिए खाने पीने की चीजें गिरा रहे हैं लेकिन सिर्फ इससे काम नहीं चलने वाला जब तक वहां आतंकवादियों का खतरा रहेगा मानवीय संकट बना रहेगा। हालांकि श्री ओबामा ने साथ ही यह भी कहा कि दुनिया के किसी भी हिस्से में जब भी संकट हो अमेरिका के लिए वहां सेना भेजना हर बार संभव नहीं है लेकिन ऐसे समय में जबकि इराक भारी खतरे से घिर गया और मदद मांग रहा है अमेरिका आंखे बंद करके चुपचाप नहीं बैठ सकता। उन्होंनेकहा कि अमेरिका इराक में नरसंहार रोकने के लिए इस बार काफंी सतर्क और जिम्मेदारी के साथ कार्रवायी करेगा।उन्होंने कहा कि इस बार अमेरिकी सेना इराक में जमीनी कार्रवायी नहीं बल्कि आतंकवादियो के खिलापं हवाई हमले करेगी।उन्होंने कहा कि इराक के अरबिल में अमेरिका के राजनयिक और सैन्य सलाहकार बडी संख्या में मौजूद हैं ऐसे में यदि अरबिल पर खतरा बढा तो आतंकवादियों पर हवाई हमले होंगे। उन्होंने कहा कि अमेरिका का मकसद इराक में स्थायी शांति स्थापित करना है और इसके लिए वह इराक सरकार को हर संभव मदद देगा।
अमेरिकी सैन्य सूत्रों के अनुसार अमेरिका की ओर से कुर्द पेशमरगा सेना को पहले से ही हथियारों की मदद तेज कर दी गयी है ।सेना को टैंक रोधी मिसाइलें .बम और हथगोलों की बडी पैमाने पर आपूर्ति हो रही है।
इस बीच संयुक्त राष्ट्र महासचिव जनरल बान की मून ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से आतंकवादियों से लडने में इराक सरकार की सहायता करने की अपील की है। श्री मून ने कहा कि वह इराक के किरकुक और काराकश में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों के हमले से स्तब्ध हैं। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय विशेषकर संसाधन एवं प्रभाव संपन्न देशों से इराक में लोगों और सरकार की सकारात्मक मदद करने की अपील की।
सुन्नी आतंकवादियों ने इराक के ईसाई बहुल काराकश पर कब्जा कर लिया जिससे वहां के अधिकतर निवासी भाग खडे हुए हैं।
इस मसले पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने भी अपने 15 सदस्यीय देशों की बैठक के बाद अंतरराष्ट्रीय समुदाय से इराक सरकार की मदद करने की अपील की है।


Check Also

इंडोनेशिया में आया 6.2 तीव्रता का भूकंप, 35 लोगों की मौत 700 लोग हुए घायल

इंडोनेशिया में विमान दुर्घटना और भूस्खलन के बाद शुकवार तड़के आए भूकंप ने देश को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *