Home >> Breaking News >> सत्ता में आई मोदी सरकार भारतवंशियों को निराश नहीं करेगी

सत्ता में आई मोदी सरकार भारतवंशियों को निराश नहीं करेगी


Sushma
हनोई,एजेंसी-25 अगस्त। वियतनाम के तीन दिवसीय दौरे पर आईं भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को कहा कि भारत अपनी ‘पूर्व की ओर देखो’ नीति को और मजबूती प्रदान करेगा और इसे कार्यशील करेगा।
सुषमा स्वराज यहां प्रवासी भारतीयों के समूह को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि भारी बहुमत के बल पर सत्ता में आई मोदी सरकार भारतवंशियों को निराश नहीं करेगी।
मंत्रालय संभालने के बाद सुषमा छठे पड़ोसी देश की यात्रा पर हैं। उन्होंने कहा कि भारत, वियतनाम के साथ चावल निर्यात में सहयोग बढ़ाने की मांग करता है।
सुषमा स्वराज ने आगे कहा कि यहां एक चावल केंद्र स्थापित कर भारत धान की खेती से जुड़े अपने ज्ञान से वियतनाम को सहयोग देता रहा है और आज देखिए वियतनाम ने हमें चावल निर्यात के मामले में पीछे छोड़ दिया।
सुषमा ने कहा, “हम वियतनाम के साथ संयुक्त रूप से चावल का निर्यात करना चाहते हैं।”
सुषमा यहां क्षेत्र के भारतीय दूतावासों के अध्यक्षों के साथ होने वाली बैठक की अध्यक्षता करेंगी। इसके अलावा वह सोमवार को आसियान-भारत नेटवर्क के विशेषज्ञ समूह के साथ तीसरे दौर की बैठक का उद्घाटन करेंगी।
उन्होंने कहा कि भारत और वियतनाम के बीच सैन्य और सुरक्षा को लेकर बहुत अच्छा सहयोग है साथ ही बेहतर कृषि समन्वय भी है।
विदेश मंत्री का यह वियतनाम दौरा वास्तव में भारतीय राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के आगामी वियतनाम दौरे की तैयारियों के मद्देनजर है। मुखर्जी 14 से 16 सितंबर के बीच वियतनाम दौरे पर जाएंगे।
सितंबर के तीसरे सप्ताह में भारत दौरे पर आ रहे चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के दौरे को देखते हुए सुषमा स्वराज के इस दौरे और मुखर्जी के आगामी दौरे को काफी अहम माना जा रहा है।
दक्षिण चीन सागर को लेकर उठे विवाद के बाद वियतनाम और चीन के बीच गतिरोध बना हुआ है।
सुषमा स्वराज ने भारत की ‘पूर्व की ओर देखो’ नीति पर कहा, “मोदी सरकार के शासन में इस नीति को मजबूती प्रदान करने और इसे कार्यशील करने का समय आ गया है तथा वियतनाम इसमें अहम भूमिका अदा कर सकता है।”
उन्होंने कहा कि वियतनाम के राष्ट्रपति ट्रओंग तान सांग और उप राष्ट्रपति नगुयान था दोआन और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ द्विपक्षीय वार्ता में सहयोग स्थापित करने के नए मार्गो पर विचार करेंगी।
भारत और वियतनाम के बीच मजबूत आर्थिक संबंध हैं तथा दोनों देशों के बीच आठ अरब डॉलर का द्विपक्षीय कारोबार होता है। इसमें भारत वियतनाम को 5.4 अरब डॉलर का निर्यात करता है।


Check Also

किसी के बाप की हिम्मत नहीं है वो फिल्म सिटी ले जाए, हम महाराष्ट्र से कुछ भी ले जाने नहीं देंगे : सामना

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने राज्य में फिल्म सिटी बनाने की योजना बना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *