Home >> Breaking News >> पाक को मुंहतोड़ जवाब देने की बनी रणनीति

पाक को मुंहतोड़ जवाब देने की बनी रणनीति


Suhaag
सैनिकों और सेना अधिकारियों को देश की सीमाओं की रक्षा करना आवश्यक है। उम्मीद है कि सीमा पर तैनात जवान हर कीमत पर सीमाओं की रक्षा करेंगे : जनरल दलबीर सिंह सुहाग, सेना प्रमुख
नई दिल्ली,एजेंसी-26 अगस्त। पाकितान ने सीमा पर सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है। पाक की इस हरकत पर गृह मंत्रालय की पैनी नजर है। इसी कड़ी में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान की ओर से सीमा पर जारी फायरिंग के बारे में चर्चा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, अनुसंधान और विश्लेषण विभाग (रा) के प्रमुख, गुप्तचर ब्यूरो के प्रमुख तथा सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक के साथ यहां महत्वपूर्ण बैठक की।
पाकिस्तानी सेना संघर्ष विराम का उल्लंघन कर पिछले कुछ दिनों से भारतीय चौकियों पर हमले कर रही है। रविवार की रात से पाकिस्तानी सेना 30 से भी अधिक चौकियों पर फायरिंग कर चुकी है। सूत्रों के अनुसार, बैठक में पाकिस्तानी सेना की फायरिंग का जवाब देने की रणनीति पर विस्तार से चर्चा हुई। इसके अलावा सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों ने भी सिंह को अपनी योजना से अवगत कराया। बैठक में गृह सचिव और मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी भाग लिया। सिंह ने गत शनिवार को भी सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक डीके पाठक के साथ बैठक कर सीमा पर स्थिति का जायजा लिया था। गृह मंत्री ने बीएसएफ से पाकिस्तान की ओर से हो रही फायरिंग का मुंहतोड़ जवाब देने को कहा था। उसी दिन रात को उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर उन्हें स्थिति से अवगत कराया था। इस बीच, इस तरह की खबरें हैं कि पाकिस्तान ने सीमा पर तैनात अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है। उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान संघर्ष विराम का उल्लंघन करके सीमा पर लगातार हमले कर रहा है और इसी कड़ी में पाकिस्तानी सेना ने रविवार की रात जम्मू के कान्हाचक सेक्टर की अग्रिम चौकियों को निशाना बनाया। बीएसएफ के जवानों ने जवाबी कार्रवाई करके उन्हें मुंहतोड़ जवाब जवाब दिया। उधर, सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग ने कहा कि सैनिकों और सेना अधिकारियों को देश की सीमाओं की रक्षा करना आवश्यक है। पिछले महीने ही सेना प्रमुख बने जनरल सुहाग ने यहां सैन्य अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद है कि सीमा पर तैनात जवान हर कीमत पर सीमाओं की रक्षा करेंगे। पूर्वोंत्तर भारत के दौरे पर जाने से पहले जनरल सुहाग ने उत्तरी सियाचिन ग्लेशियर का भी दौरा किया था। अपने चालीस साल के कॅरियर के दौरान जनरल सुहाग पूर्वी कमान एडीआर के सेना कमांडर रहने के साथ साथ बहुत से सेना ॉपरेशन का हिस्सा रहे हैं।


Check Also

पंजाब अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड ने निकाली भर्तियां, ऐसे करे अप्लाई

पंजाब अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड ने सुपरवाइजर के पद पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *