Home >> इंटरनेशनल >> अमेरिकी राष्ट्रपति को ‘ओसामा’ ने दी धमकी, अल्लाह की मर्जी से फिर दोहराएगा 9/11 हादसा

अमेरिकी राष्ट्रपति को ‘ओसामा’ ने दी धमकी, अल्लाह की मर्जी से फिर दोहराएगा 9/11 हादसा


वाशिंगटन। पूरी दुनिया को दहला देने वाला 9/11 का हादसा एक बार फिर गरमा गया है। इसकी वजह बना एक ख़त जो जेल से एक आतंकवादी ने लिखा। यह ख़त अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ओबामा को लिखा गया। ख़त में इस हादसे के साथ और भी कई नृशंस हत्याकांडों का ब्यौरा दिया गया था। लिखने वाले ने इन घटनाओं के लिए पूरी तरह से अमेरिका को जिम्मेदार बताया है, जिसके मुख्य रूप से यहां के मुखिया ओबामा का हाथ रहा। बता दें ख़त लिखने वाला आतंकवादी खालिद शेख मोहम्मद खुद को इस घटना का मास्टरमाइंड बताता है। जबकि अमेरिका इसके लिए ओसामा बिन लादेन और अलकायदा को इसके लिए जिम्मेदार ठहराता आया है। गौरतलब यह है कि यह ख़त जेल से साल 2015 में लिखा गया, लेकिन अमेरिका पहुँचने में इसे दो साल लग गए।

9/11 का हादसा   

खालिद मोहम्मद ने बराक ओबामा को ‘सांप का सर’ बताते हुए यह खत लिखा है। इस खत में खालिद ने कहा कि ओबामा ‘दमन और उत्पीड़न करने वाले देश’ का प्रमुख है और 9/11 की घटना अमेरिका की सम्राज्यवादी विदेशी नितियां और हजारों मासूमों की मौत का बदला था।

खालिद ने खत में लिखा है कि, यह हम नहीं थे जिन्होंने आपकी जमीन पर 9/11 की घटना को अंजाम देकर युद्ध शुरू किया। युद्ध तो आप और आपके तानाशाहों ने हमारी जमीन पर शुरू किया था। खालिद ने कहा कि 9/11 के दिन अल्लाह हमारे साथ था।

खालिद ने कहा कि 9/11 के दिन विमान का अपहरण कर अपहरणकर्ताओं ने जब ट्विन टावर्स, पेंटागन और पेंसिलवेनिया के एक मैदान को निशाना बनाया, उस वक्त अल्लाह भी हमारे साथ था। खालिद ने लिखा, ‘अल्लाह ने 9/11 की घटना को अंजाम देने, तुम्हारी पूंजीवादी अर्थव्यवस्था को ध्वस्त करने और तुम्हारी धूर्तता और पांखड को सामने लाने में हमारी मदद की।’

 पत्र में खालिद ने कई ‘क्रूर और नृशंस हत्याकांडों’ का जिक्र किया है, जिसके पीछे वो अमेरिका का हाथ मानता है। इन घटनाओं में हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु हमला से लेकर वियतनाम युद्ध तक कई घटनाओं का जिक्र है। लेकिन पत्र में खालिद ने जिस बार पर सबसे ज्यादा बार जिक्र किया वो फलिस्तीनी आबादी की तकलीफें और इजराइल को अमेरिका का मिलता समर्थक है।

ख़बरों के मुताबिक़ इस खत को अमेरिका के डिफेंस अटार्नी डेविड नेविन ने जारी किया। डेविड नेविन ने बताया कि खालिद ने दो साल पहले नवंबर 2014 में ग्वॉनटैनमो जेल में रहने के दौरान इस खत को लिखना शुरू किया था। इस खत पर 8 जनवरी 2015 की तारीख पड़ी है। लेकिन अमेरिका पहुंचने में इस खत को 2 साल से ज्यादा समय लग गया।

 

Check Also

हर अमेरिकी को 1400 डॉलर की आर्थिक मदद, इसके अलावा, बेरोजगारी भत्ता प्रति हफ्ते 400 डॉलर किया गया अमेरिका के नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन

अमेरिका के नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन ने कोरोना महामारी से अमेरिकी अर्थव्यवस्था को उबारने के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *